थाने के पास छापे जा रहे थे नकली नोट, जाली नोटों की फैक्ट्री मिली, 2.74 करोड़ कैश के साथ 6 गिरफ्तार

थाने के पास छापे जा रहे थे नकली नोट, जाली नोटों की फैक्ट्री मिली, 2.74 करोड़ कैश के साथ 6 गिरफ्तार
Share

बीकानेर (कार्यालय संवाददाता)।  थाने से महज 2 किमी दूर स्थित एक मकान में पिछले एक साल से जाली करेंसी छापी जा रही है। फिर भी पुलिस को हवा नहीं लग रही थी। यहां से करोड़ों रूपए के जाली नोट दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, सूरत, अहमदाबाद, चेन्नई, बेंगलुरू सहित देशभर के बड़े शहरों में खपाए जा चुके हैं। ग्राम पंचायतों की मीटिंग के दौरान आसपास के इलाकों में जाली नोट छपने की चर्चा हुई तो 2 सिपाहियों के कान खड़े हुए। उन्होंने उच्चाधिकारियों को अवगत कराया। फिर बड़े अफसर हरकत में आए। शनिवार की शाम करीब साढ़े सात बजे छापेमारी कर मौके से 2 करोड़ 74 लाख जाली करेंसी जब्त की गई है। साथ ही, 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। मामला बीकानेर का है।

3 हो गए थे फरार : आईजी ओम प्रकाश पासवान ने कहा- पिछले कुछ दिनों से लूणकरनसर के दो सिपाहियों को ग्राम पंचायतों की मीटिंग के दौरान सूचना मिल रही थी कि नकली नोट छापने का काम हो रहा है। इसकी पूरी छानबीन की गई। सूचना सही निकली। शनिवार शाम जयनारायण व्यास थाने से महज 2 किमी दूर वृंदावन एन्क्लेव में छापेमारी की गई। मकान नंबर 670 में पुलिस पहुंची तो होश उड़ गए। वहां नोट छापने की मशीन (प्रिंटर) लगी थी। वहां से रविकांत जाखड़ (24), नरेंद्र शर्मा उर्फ विक्की (27) और मालचंद शर्मा (29) को गिरफ्तार किया गया। मकान में रखे 2 करोड़ 74 लाख रूपए भी पुलिस ने जब्त कर लिए। पुलिस कार्रवाई से पहले चंपालाल शर्मा उर्फ नवीन सारस्वत (31), पूनमचंद शर्मा (26) और राकेश सारस्वत (22) फरार हो गए। रात करीब नौ बजे नोखा के पास से इनको गिरफ्तार किया गया। सभी आरोपी बीकानरे और आसपास के ही रहने वाले हैं।

देशभर में पहुंचे नकली नोट : बीकानेर में छापे गए ये नोट राजस्थान के अलावा नई दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, पुणे, चेन्नई, बेंगलुरू, पटना, गुवाहाटी, शिलॉन्ग, लुधियाना, चंडीगढ़, सूरत, अहमदाबाद, वृंदावन, बनारस, गाजियाबाद में हवाला कारोबारियों के माध्यम से नकली नोट पहुंचाए हैं। इन शहरों में कितने रूपए पहुंचे, इसका हिसाब अब तक नहीं मिल पाया है। इस कार्रवाई को अंजाम बीछवाल, जयनारायण व्यास कॉलोनी, नोखा, लूणकरणसर थाना पुलिस ने दिया है।

पहले भी नकली नोटों में लिप्त रहे आरोपी : इस पूरे गिरोह का सरगना चंपालाल शर्मा उर्फ नवीन बताया जा रहा है। नोटबंदी के दौरान नवीन से पांच करोड़ दस लाख रूपए बरामद हुए थे। मामला बीछवाल थाने (बीकानेर) में दर्ज है। चंपालाल के भाई विशाल की मंडी में आढ़त की दुकान है। विक्की उर्फ नरेंद्र शर्मा के खिलाफ 2019 में पालनपुर पश्चिम गुजरात में मामला दर्ज है। तब उसने 43 लाख रूपए के नकली नोट छापे थे। वो इस मामले में गुजरात जेल में रह चुका है और 27 जुलाई को ही उसकी पेशी होने वाली है।

इस सीरीज से जाली नोट बाजार में खपाए जा रहे हैं।

दो हजार के नोट – 8NA750831, 4LH269605, 4LH044149, 5AA807418, 7KM369289, 6GC313798, 2KB316978, 4BD183402, 5LE213589, 8FU151819, 2AU324384, 0CV804572, 1BM114532

500 के नोट- 2ML216390, 2BQ062586, 2GT253211, 1FE355905, 4UB132101, 2BF0272569, 1BQ910750, 1AU391896, 1BK037295


Share