Saturday , 23 June 2018
Breaking News
Home » Entertainment » उपचुनाव हार से सबक, नए साथी तलाशेगी भाजपा?

उपचुनाव हार से सबक, नए साथी तलाशेगी भाजपा?

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने रविवार को इस बात को स्वीकार किया है कि हाल ही में हुए चुनाव से भाजपा को झटका लगा है। उन्होंने यह भी कहा कि जरूरत हुई तो पार्टी 2019 चुनाव से पहले कुछ और सहयोगियों का साथ भी ले सकती है।
जब नकवी से पूछा गया कि क्या भाजपा को क्षेत्रीय इलाकों में किसी सहयोगी की जरूरत पड़ेगी? तो नकवी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल से ही भाजपा सहयोगियों को लेकर प्रतिबद्ध है।
नकवी ने कहा, हम फेडरल सिस्टम के प्रति पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं। इसलिए हम चाहते हैं कि हमारे सहयोगी हमारे साथ रहें। अगर हमें और सहयोगियों की जरूरत हुई तो हम और सहयोगी तलाशेंगे। हमने अभी तक ”प्रवेश वर्जितÓÓ का बोर्ड नहीं लगाया है। नकवी ने कहा कि हाल के दिनों जो सहयोगी एनडीए छोड़कर गए हैं, वे भी इस गठबंधन में फिर से शामिल हो सकते हैं।
जब नकवी से हाल के दिनों में हुए उपचुनाव में भाजपा की हार पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा, अगर मैं कहूं कि उपचुनाव में भाजपा की हार से पार्टी पर कोई खास फर्क नहीं पड़ेगा, तो यह पूरी तरह गलत होगा। उन्होंने कहा कि यह हार भाजपा को ”अपवित्र और अराजकतावादीÓÓ गठबंधन से लडऩे में और मजबूत बनाएगी।
नकवी ने कहा, जब आप युद्धक्षेत्र में होते हैं और आपको दुश्मन की ताकत और रणनीति का अंदाजा हो जाए तो आपके लिए जीत आसान हो जाती है। उपचुनाव की वजह से हमें अनुभव मिला है और यह हमारी जीत आसान बनाएगा।
गोवा में ”ट्रांसफॉर्मिंग इंडियाÓÓ कैंपेन में हिस्सा लेने आए नकवी ने देश के कई हिस्सों में किसानों के आंदोलन को लेकर भी चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा, हमें इस मुद्दे पर ध्यान देने और इसे सुलझाने की जरूरत है। इसलिए हम नहीं कह सकते हैं कि पिछले चार साल में हमने सभी पुरानी समस्याओं को खत्म कर दिया है। कुछ चुनौतियां अब भी हैं, लेकिन हम चुनौतियों का सामना करेंगे और समस्याओं को खत्म करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*