शतक की ङ्क्षचता नहीं, लय में वापस आना केवल एक पारी की बात : पुजारा

शतक की ङ्क्षचता नहीं, लय में वापस आना केवल एक पारी की बात : पुजारा
Share

कानपुर (एजेंसी)। न्यूजीलैंड के खिलाफ आगामी गुरूवार को पहले टेस्ट मैच में उप कप्तान के रूप में खेलने वाले चेतेश्वर पुजारा ने अपने फॉर्म को लेकर कहा कि उन्हें शतक की ङ्क्षचता नहीं है। उनका काम टीम के लिए अच्छी बल्लेबाजी करना है और वह ऐसा कर रहे हैं। लय में वापस आना केवल एक पारी की बात है।

पुजारा ने मंगलवार को वर्चुअल संवाददाता सम्मेलन में कहा, जहां तक मेरे शतक की बात है तो यह जब आएगा तब आएगा। मेरा काम टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन करना है। ऐसा नहीं है कि मैं रन नहीं बना रहा हूं। मैं 50, 80 और 90 रनों की पारी खेल रहा हूं। मैं अच्छी बल्लेबाजी कर रहा हूं और टीम के लिए योगदान दे रहा हूं। मुझे अपने शतक की परवाह नहीं है। यह एक पारी की बात है।

33 वर्षीय पुजारा ने  इस बात पर खुशी जाहिर की है कि निडर होकर बल्लेबाजी करने से उनकी लय लौटी है और वह अब खुद पर गैरजरूरी दबाव नहीं डालेंगे। उन्होंने इंग्लैंड में पिछली टेस्ट सीरीज में आक्रामक बल्लेबाजी पर कहा,जब प्रदर्शन की बात आती है तो मुझे लगता है कि मानसिकता थोड़ी अलग थी, लेकिन जब तकनीक की बात आती है तो मुझे नहीं लगता कि कोई बड़ा बदलाव आया है। यह सिर्फ  दृष्टिकोण की बात थी और मैं थोड़ा निडर था, जिससे मुझे मदद मिली। आपको खुद पर बहुत अधिक दबाव डालने की जरूरत नहीं है और जो कुछ हो रहा है उसके बारे में बहुत अधिक ङ्क्षचता करने के बजाय केवल कोशिश करें कि वहां जाएं और खेल का आनंद लें। इंग्लैंड सीरीज के दौरान मेरी यही मानसिकता थी। अब तक तैयारी अच्छी रही है और भारतीय परिस्थितियों में खेलने के अनुभव से अगले कुछ टेस्ट मैचों में मदद मिलेगी।

उल्लेखनीय है कि पुजारा ने जनवरी 2019 के बाद से टेस्ट शतक नहीं लगाया है, लेकिन उनके लिए यह कोई समस्या नहीं है। टेस्ट में पुजारा का आखिरी शतक जनवरी 2019 में आया था, जो उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बनाया था। उन्होंने अपनी आखिरी छह टेस्ट पारियों में केवल 133 रन बनाए हैं।

वहीं कानपुर टेस्ट में टीम की कमान संभालने वाले अङ्क्षजक्या रहाणे भी कुछ समय से बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे हैं, लेकिन पुजारा का मानना है कि वह बड़े स्कोर से सिर्फ एक पारी दूर हैं। पुजारा ने कहा,अङ्क्षजक्या एक महान खिलाड़ी हैं, लेकिन कई बार ऐसा भी होता है जब खिलाड़ी मुश्किल समय से गुजरता है और यह खेल का हिस्सा है। उतार-चढ़ाव आएंगे, लेकिन मुझे पूरा यकीन है कि वह बड़ा स्कोर हासिल करने से सिर्फ एक पारी दूर हैं। शतक या बड़ी पारी के साथ ही वह लय हासिल कर लेंगे।


Share