खामोशी को मेरी कमजोरी ना समझें – उद्धव ठाकरे

खामोशी को मेरी कमजोरी ना समझें - उद्धव ठाकरे
Share

मुंबई (कार्यालय संवाददाता)। कंगना रनौत विवाद के बीच महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को प्रेस कॉन्फें्रस की। इस दौरान उन्होंने कहा कि फिलहाल उनका फोकस कोरोना पर है। साथ ही उद्धव ठाकरे ने ये भी कहा कि महाराष्ट्र को बदनाम करने की कोशिश हो रही है। सही समय पर मैं इस पर बोलूंगा। उद्धव ने ये भी कहा कि मेरी खामोशी को कमजोरी न समझें।

कोरोना की गंभीर स्थिति का जिक्र करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि 15 सितंबर से हम एक हेल्थ चेकअप मिशन लॉन्च करने जा रहे हैं। मेडिकल टीम हर घर जाकर स्वास्थ्य की जानकारी लेंगी। उद्धव ने कहा कि कुछ लोग सोच सकते हैं कि कोरोना खत्म हो गया है और उन्होंने राजनीति करना शुरू कर दिया है। जबकि मैं महाराष्ट्र को बदनाम करने के लिए चल रही राजनीति पर कुछ नहीं कहना चाहता। सही समय पर मैं इसके बारे में बोलूंगा, इसके लिए मुझे सीएम के प्रोटोकॉल को कुछ समय के लिए अलग रखना होगा। अभी के लिए मेरा ध्यान कोरोना पर है। ठाकरे ने कहा कि अतीत में कई तूफान आए हैं, इसमें राजनीतिक उठापटक भी शामिल हैं, लेकिन मैं राजनीतिक तूफानों को संभालने में सक्षम हूं।

मराठा आरक्षण देने की पूरी कोशिश

सीएम ने कहा कि हमने कोरोना से लडऩे के लिए ‘मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारीÓ नाम से एक अभियान शुरू कर रहे हैं। उद्धव ने यह बात भी कही कि मेरी पूरी कोशिश है कि मराठा आरक्षण मिले। हमने इसे लेकर विपक्ष से भी बात की है। मराठा आरक्षण देने की मेरी पूरी कोशिश है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने इस पर रोक लगा रखी है। लेकिन हम पूरी कोशिश करेंगे कि आपको पूरा न्याय मिले। आंदोलन न करें, गलतफहमी न फैलाएं। मराठा आरक्षण मामले में न्याय मिले, सरकार की पूरी कोशिश है।


Share