हर माह कराएं अस्पतालों का अग्नि सुरक्षा ऑडिट

हर माह कराएं अस्पतालों का अग्नि सुरक्षा ऑडिट
Share

सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों को दिया समितियां बनाने का आदेश

नई दिल्ली (एजेंसी)। राजकोट के कोविड-19 अस्पताल में आग में पांच मरीजों के जिंदा जलने के मामले को देखते हुए  सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्य सरकारों और केंद्रशासित प्रदेशों को कोविड अस्पताल समेत सभी अस्पतालों का हर माह अग्नि सुरक्षा ऑडिट कराने का आदेश दिया है। शीर्ष कोर्ट ने कहा सभी राज्य इसके लिए समितियां गठित करें।

नोडल अधिकारी भी नियुक्त करें

सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि प्रत्येक राज्य सरकार को अस्पतालों में अग्नि सुरक्षा मानदंडों का पालन सुनिश्चित करने के लिए एक नोडल अधिकारी नियुक्त करना चाहिए।

बता दें, हाल के दिनों में देश के अस्पतालों में आग लगने की कई घटनाएं सामने आई हैं। इसे लेकर अस्पतालों की सुरक्षा सवालों के घेरे में आ गई है। आग लगने की घटना में कई मरीजों ने अपनी जान भी गंवाई है। इनमें से कई मरीज ऐसे हैं, जिनकी दम घुटने या जलने से मौत हुई है।

राजकोट की घटना पर लिया था स्वत: संज्ञान

इससे पहले, गुजरात के राजकोट में एक कोविड अस्पताल में आग लगने के कारण पांच मरीजों की मौत की घटना को लेकर सुप्रीम कोर्ट व्यथित दिखाई दी थी। शीर्ष अदालत ने इस घटना का स्वत: संज्ञान लेते हुए सुनवाई शुरू की और ऐसी घटनाओं पर रोकथाम लगाने में केंद्र व राज्य सरकारों की विफलता पर कड़ी नाराजगी जताई। सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि लगातार ऐसी घटनाएं होने के बावजूद इस समस्या को रोकने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है।

गौरतलब है कि राजकोट में पिछले महीने अल सुबह एक निजी कोविड अस्पताल में भीषण आग लगने से पांच मरीजों की जिंदा जलकर मौत हो गई थी। कई अन्य मरीज भी झुलस गए, उन्हें दूसरे अस्पताल में भर्ती कराया गया।

यह दर्दनाक घटना राजकोट के मावड़ी इलाके में स्थित शिवानंद अस्पताल के आईसीयू में हुई थी। कोविड अस्पताल होने की वजह से अस्पताल के आईसीयू में 11 मरीज भर्ती थे। इन्हें मिलाकर अस्पताल में कुल 33 मरीज भर्ती थे। कई मरीज आग की ऊंची लपटों में घिरकर झुलस गए।


Share