ऑस्ट्रेलिया में ‘बेइज्जत’ करके निकाले गए, जोकोविच का करियर भी खतरे में!

Djokovic's career in danger after being 'disgraced' in Australia!
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। 20 ग्रैंड स्लैम विनर नोवाक जोकोविच और ऑस्ट्रेलियाई सरकार के बीच टकरार अब आखिरी चरण में है। या यूं कह लें कि ऑस्ट्रेलियाई सरकार जीत चुकी है और जोकोविच ऑस्ट्रेलिया ओपन में हिस्सा नहीं ले सकेंगे। उन्हें सर्बिया लौटना पड़ेगा। फेडरल कोर्ट के तीन जजों ने रविवार को सर्वसम्मति से इमिग्रेशन मिनिस्टर के जोकोविच का वीजा रद्द करने के फैसले को बरकरार रखा जिसका मतलब है कि दुनिया के नंबर एक टेनिस खिलाड़ी को अब हर हाल में देश छोडऩा होगा।

हो सकता है कभी नहीं खेल पाएं ऑस्ट्रेलियन ओपन : यही नहीं, अमूमन ऐसा होने पर ऑस्ट्रेलिया में व्यक्ति को 3 वर्ष के लिए बैन कर दिया जाता है। इसका सीधा मतलब है कि अगर ऐसा जोकोविच के साथ भी ऐसा हुआ तो वह अगले 3 वर्ष तक ऑस्ट्रेलियन ओपन में हिस्सा नहीं ले पाएंगे। या हो सकता है कि वह कभी इस टूर्नामेंट में कभी नहीं खेल पाएं। ऐसा इसलिए क्योंकि उनकी उम्र फिलहाल 34 वर्ष है और जब बैन हटेगा तो उनकी उम्र 37 वर्ष होगी। हो सकता है कि तब तक वह संन्यास ले लें।

अन्य ग्रैंड स्लैम से भी हो सकते हैं बाहर

ऑस्ट्रेलियन ओपन वर्ष का पहला ग्रैंड स्लैम है। इसके बाद अन्य तीन फ्रेंच ओपन (फ्रांस), विंबलडन (इंग्लैंड) और यूएस ओपन (ऑस्ट्रेलिया) अभी होने हैं, लेकिन सवाल उठता है कि महामारी कोविड-19 से बचाव में सहायक वैक्सिन नहीं लगवाने पर क्या उन्हें इन देशों में एंट्री मिलेगी? हो सकता है कि ये देश भी नोवाक को एंट्री न दें। या हो सकता है कि वैक्सिन लगवाने के बाद वह टूर्नामेंट में हिस्सा ले सकें।

जोकोविच के साथ अब क्या होगा?

यदि अदालती कार्रवाई से नहीं रोका जाए तो आदेश के बाद जितना जल्दी संभव हो सके व्यक्ति को निर्वासित होना पड़ता है। सरकार ने यह नहीं बताया है कि जोकोविच कब जाएंगे। आमतौर पर निर्वासन के आदेश का मतलब व्यक्ति तीन साल तक वापस ऑस्ट्रेलिया नहीं लौट सकता है। मुख्य न्यायाधीश जेम्स ऑलसॉप ने कहा कि यह फैसला इस पर निर्भर करता है कि क्या मंत्री का निर्णय ‘तर्कहीन या कानूनी रूप से अनुचित’ था। ऑलसॉप ने कहा, फैसले के गुण या ज्ञान पर फैसला करना अदालत के कार्य के अंतर्गत नहीं आता है।‘


Share