विकास का प्रतीक विकास महोत्सव मनाया

Development Festival celebrated symbolizing development
Share

मुंबई। शासनश्री साध्वी विद्यावती ‘द्वितीय’ ठाणा 5 के सानिध्य में भायंदर में विकास महोत्सव आयोजित किया गया। साध्वी ऋद्धियशा ने कहा कि तेरापंथ धर्मसंघ एक प्रगतिशील धर्मसंघ है। इस संघ में विकास की असीम संभावनाएं हैं। साध्वी मृदुयशा ने  कविता प्रस्तुत की। साध्वी प्रेरणाश्री ने कहा कि विकास देखना सब चाहते हैं पर श्रम करना नहीं चाहते। श्रम के बिना विकास असंभव है। साध्वी प्रियंवदा ने कहा कि यह 29 वाँ विकास महोत्सव मनाया जा रहा है। तेरापंथ धर्मसंघ ने विकास की अनेक ऊंचाइयों का स्पर्श किया है। साध्वी विद्यावती ने कहा कि तेरापंथ के पूर्वाचार्यों ने विशेषकर अष्टमाचार्य कालुगणी एवं आचार्य तुलसी ने विकास के महत्त्वपूर्ण स्वप्न देखे। उन सपनों का ही प्रतिफल है कि तेरापंथ धर्मसंघ ने शिक्षा, कला, आगम अनुसंधान, साहित्य लेखन, वक्तृत्व, एवं विहार क्षेत्र तथा जन संपर्क में प्रशंसनीय विकास किया है। दिनेश आच्छा ने आगामी आयोजनों कि जानकारी दी।  संचालन साध्वी प्रियंवदा ने किया। इस अवसर पर भगवतीलाल बागरेचा, पारसमल कच्छारा, सोहनलाल बडेरा, निर्मल फूलफगर आदि उपस्थित थे। यह जानकारी मीडिया प्रभारी भूपेन्द्र बागरेचा ने दी।


Share