नूपुर शर्मा के खिलाफ 11 राज्यों में प्रदर्शन,बंगाल में उपद्रवियों ने थाना फूंका, रांची मंदिर पर पथराव के बाद पुलिस फायरिंग में 1 की मौत, बिहार के मंत्री पर भी हमला, उ.प्र. में भी कई जगह हिंसा

नूपुर शर्मा के खिलाफ 11 राज्यों में प्रदर्शन,बंगाल में उपद्रवियों ने थाना फूंका, रांची मंदिर पर पथराव के बाद पुलिस फायरिंग में 1 की मौत, बिहार के मंत्री पर भी हमला, उ.प्र. में भी कई जगह हिंसा
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। पैगंबर मोहम्मद पर विवादित टिप्पणी के बाद भाजपा से निष्कासित नेता नूपुर शर्मा के खिलाफ शुक्रवार को देश के 11 राज्यों में प्रदर्शन हुए। उत्तर प्रदेश, दिल्ली, कर्नाटक, बंगाल और गुजरात के कई शहरों में जुमे की नमाज के बाद लोग सड़कों पर उतर आए और नूपुर शर्मा के खिलाफ नारेबाजी की।

उत्तर प्रदेश के कई शहरों में पथराव और तोडफ़ोड़ की घटनाएं हुईं। प्रयागराज में प्रदर्शनकारियों ने पीएससी का ट्रक फूंक डाला। कर्नाटक में नूपुर का पुतला लटका दिया। पश्चिम बंगाल के हावड़ा स्टेशन के पास लोगों ने पटरी पर आगजनी की और पुलिस का वाहन फूंक दिया। बवालियों ने हावड़ा डोमजूर थाने पर पहले पथराव किया फिर उसे फूंक दिया। बवाली यहीं नहीं रुके, उलुबेरिया में भाजपा के एक कार्यालय में तोडफ़ोड़ की गई और आग लगा दी गई।

एक दिन पहले ही नूपुर सहित 33 लोगों के खिलाफ हेट स्पीच देने का मामला दिल्ली पुलिस ने दर्ज किया है। मुंबई में भी उनके खिलाफ एक मामला दर्ज हुआ है। हालांकि, दिल्ली पुलिस ने ही उन्हें सुरक्षा भी प्रदान की है, क्योंकि उन्हें जान से मारने और रेप की धमकियां मिल रही थीं।

रांची ।  पैगंबर पर विवादित टिप्पणी को लेकर रांची में शुक्रवार को नमाज के बाद हिंसक प्रदर्शन हुआ। आगजनी और पथराव के चलते पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी। इस फायरिंग में 35 साल के व्यक्ति की मौत हो गई। 7 अन्य लोगों को गोली लगी है।

प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर भी पथराव किया। एसएसपी समेत कई पुलिस अफसरों को चोटें आई हैं। रांची में मौजूद बिहार सरकार के मंत्री नितिन नवीन की गाड़ी पर भी उपद्रवियों ने हमला कर दिया। वे भाजपा कोटे से नीतीश सरकार में मंत्री हैं।

पत्थरबाजी के दौरान कुछ लोगों ने महावीर मंदिर में छिपने की कोशिश की। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने मंदिर पर भी पथराव कर दिया। इस घटना से हिंदू संगठनों का गुस्सा भी भड़क गया और वे सड़कों पर उतर आए। रांची में ऐहतियातन धारा 144 लागू कर दी गई है।

हालांकि, पहले कहा जा रहा था कि प्रशासन ने कर्फ्यू लगाने का फैसला किया है।

फोर्स कम थी, कैसे पुलिसकर्मी ने मांगी मदद

एक पुलिसकर्मी सीनियर अधिकारी से फोन पर बात करते हुए कहता है, देखिए-देखिए पत्थर चल रहा है। सर पत्थर चल रहा है, हमको कमर पर लगा है। मेरा मोबाइल टूट गया। जल्दी से फोर्स भेज दीजिए। सर पत्थर चला रहा है।


Share