दो दिन से लापता युवक की लाश थूर तालाब में मिली, अजीज मित्र पर संदेह

जेल की तलाशी, हाईसिक्योरिटी सेल के बाहर मिला मोबाईल और सिम
Share

उदयपुर. नगर संवाददाता & शहर के अंबामाता थाना क्षेत्र में दो दिन से लापता एक युवक का शव थूर के तालाब में मिला। यह युवक दो दिन पूर्व फोन पर अपने एक अजीज मित्र को फोन यह कह रहा था कि उसने भाभी को कुछ नहीं कहा और इसके बाद यह गायब हो गया था। दो दिन से परिजन इसे तलाश रहे थे और आखिरकार गुरूवार को इसका शव मिला। मृतक के परिजनों का आरोप है कि जिस मित्र से वह फोन पर बात कर रहा था उसी ने उसकी या तो हत्या की है या आत्महत्या के लिए प्रेरित किया है। परिजन आरोपी युवक की गिरफ्तारी करने और पूरे मामले के खुलासे पर अड़े हुए है और शव का पोस्टमार्टम करवाने से इंकार कर दिया। शव मोर्चरी में ही पड़ा है, जिसको लेकर शुक्रवार को समझाईश की जाएगी।

मिली जानकारी के अनुसार रवि (22) पुत्र ताराशंकर नागदा निवासी करदा हाल शिव कॉलोनी पिंक पर्ल बडग़ांव 16 नवम्बर की शाम तीन बजे मोबाइल पर किसी से बात कर रहा था और फोन पर बात करते हुए वह जोर-जोर से कह रहा था कि उसने भाभी से ऐसी कोई बात नहीं की है और केवल गलत फहमी हो रही है। यह बात रवि के बड़े भाई ललित की पत्नी अंजली ने सुनी थी। इसके बाद युवक पर्स और अन्य दस्तावेज घर पर ही छोड़कर मोबाईल और बाईक लेकर निकल गया। इसके बाद वह वापस नहीं लौटा। परिजनों ने रिश्तेदारी व आसपास सब जगह तलाश की लेकिन उसका कहीं पता नहीं लगा। रात दस बजे उसकी गुमशुदगी अम्बामाता थाने पर दर्ज कराने के लिए दी जो 17 तारीख सुबह पुलिस ने दर्ज की। इस दौरान रवि के मित्रों ने सोशल मीडिया पर उसकी फोटो डालकर उसकी तलाश शुरू कर दी। दूसरे दिन परिजनों ने पुलिस पर दबाव बनाया तो पता चला कि रवि की आखिरी लोकेशन बरोडिय़ा चौकी की थी, जहां पर जाकर तलाशा लेकिन पता नहीं चला। रवि को उसके परिजन और मित्र मयंक नागदा, प्रेम शंकर और गणेश नागदा लगातार तलाश रहे थे। तलाशी के दौरान ही रवि के भाई ने ललित ने साथियों को फोन कर बताया कि रवि की मोटर साइकिल थूर की पाल पर श्मशान के पास में खड़ी है। इस पर परिजनों ने अम्बामाता थाने पर सूचना दीं।

रवि के परिजनों इसके बाद उसे काफी तलाशा लेकिन पता नहीं चला। इस पर परिजनों ने आखिरी कॉल के आधार पर थाने में रवि के अजीज मित्र तरूण सुथार के खिलाफ रिपोर्ट दी। इस पर पुलिस ने तरूण सुथार और इसके भाई नानालाल सुथार को थाने पर बुलाया और पूछताछ कर छोड़ दिया। 17 को ही परिजनों ने रवि को फतहपुरा से लेकर अम्बेरी और कविता तक तलाशा, लेकिन पता नहीं चला। 18 को परिजनों ने एएसपी सिटी को ज्ञापन दिया और तरूण सुथार पर शंका जताते हुए सख्ती से कार्यवाही की मांग की। ज्ञापन देकर परिजन जा रहे थे कि पुलिस ने फोन कर परिजनों को थूर की पाल पर बुलाया। जहंा पर सिविल डिफेंस और एनडीआरएफ टीमे रवि को पानी में तलाश रही थी। गोताखोरों ने कैमरे से युवक को पानी में तलाशा तो वह नजर आया। इस पर गोताखोरों ने रवि के शव को बाहर निकाला। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए एमबी चिकित्सालय के मुर्दाघर लाए।

इधर चिकित्सालय में दर्जनों की संख्या में परिजन एकत्रित हो गए और परिजनों ने रवि के अजीज मित्र तरूण सुथार व उसके भाई नानालाल सुथार पर शंका जताई कि रवि की मौत में इन दोनों का हाथ है और दोनों की गिरफ्तारी की जाए और सख्ती से पूछताछ की जाए तो मामले का खुलासा हो सकता है। परिजनों द्वारा पोस्टमार्टम की कार्यवाही के दौरान विरोध करने पर अम्बामाता थानाधिकारी दलपतसिंह राठौड़, सब इंस्पेक्टर मुकेश कुमार, एएसआई राजेश मेहता ने समझाईश की, लेकिन परिजन मामले के खुलासे से पहले शव लेने से इंकार कर दिया। इस पर पुलिस ने मृतक का पोस्टमार्टम नहीं करवाया और शव मोर्चरी में ही रखा हुआ है। इधर थानाधिकारी दलपतसिंह का कहना है कि जिस युवक तरूण सुथार पर परिजन शंका जता रहे है उससे पूछताछ की तो उसने बताया कि हमेशा ही वह रवि से फोन पर बातें करता था और उस दिन भी रूटिन में ही बात की थी।

अजीज दोस्त तरूण ने गायब होने के बाद पूछा तक नहीं

परिजनों का कहना है कि रवि और तरूण अच्छे दोस्त है और यहां तक की दोनों केवल रात में अलग सोते थे बाकी दिनभर साथ में रहते थे। तीन दिन से रवि गायब है और तरूण ने उसके बारे पूछा तक नहीं, जो शंका पैदा करता है। तरूण के फोन पर उसने रवि ने यह कहा था कि उसने भाभी को कुछ नहीं कहा था तो आखिरकार ये शब्द किसके लिए कहे थे। इसी का परिजन खुलासा चाहते है।


Share