‘दक्षिण शक्ति- सेना के शौर्य एवं पराक्रम से रेगिस्तान हो उठा गुंजायमान

'दक्षिण शक्ति- सेना के शौर्य एवं पराक्रम से रेगिस्तान हो उठा गुंजायमान
Share

जैसलमेर (कार्यालय संवाददाता)। थार रेगिस्तान भारतीय सेना एवं वायु सेना के शौर्य एवं पराक्रम से गुंजयमान हो उठा, चारों तरफ रेत का गुब्बार ,टैंकों की गडग़ड़ाहट, बम धमाकों, गोलियां की आवाज, लड़ाकू विमानों एवं लड़ाकू हेलीकॉप्टर की आवाजाही से युद्ध की परिस्थितियों का नजारा प्रस्तुत किया गया। भारतीय सेना की दक्षिणी कमान के अन्तर्गत ‘दक्षिण शक्ति’ नामक इस वृहद वार गेम एक्सरसाइज में पहली बार इंटीग्रेटेड थियेटर कमान की परिकल्पना को साकर किया गया। युद्ध की परिस्थिति में सेना के तीनों अंग आपस में बेहतरीन तालमेल कायम कर दुश्मन को पूरी तरह नेस्तनाबूद कर सके। इस अभ्यास में पहली बार स्पेस टेक्नोलॉजी एवं आर्टिफीसीयल इेटेलीजेंस का समावेश किया गया।

युद्धाभ्यास में करीब 30 हजार सैनिकों ने करीब तीन महीने तक इस एक्सरसाइज की परिकल्पना को साकार किया इस एक्सरसाइज में सेना के टी 90 टैंक, टी72 टैंक, बीपीएम, मिसाइल, आसीएल गन्स आदि अन्य हथियारों से दुश्मन के छदम ठिकानों को नेस्तनाबूद कर दिया, भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों एसयू 30, जगुआर, लड़ाकू हेलीकॉप्टर रूदा, चीता, एमआई 17, ध्रुव आदि ने भी इस एक्सरसाइज में युद्ध की परिस्थितियों का नजारा प्रस्तुत करते हुए उस क्षेत्र में उड़ानें भरी। सेना के इस कौशल को देखने एवं हौंसला अफजाई करने खुद सेनाध्यक्ष जनरल एम एम नरवणे, दक्षिणी कमान के कमांङ्क्षडग ऑफिसर लेफ्टिनेंट जनरल जे एस नैन, लेफ्टिनेंट जनरल राकेश कपूर एवं वायु सेना के दक्षिणी पश्चिमी कमान के कमांङ्क्षडग ऑफिसर एयर मार्शल मौके पर मौजूद थे। युद्वाभ्यास में अब तक के सबसे लेटेस्ट तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है और खासकर ड्रोन को भी युद्धाभ्यास का हिस्सा बनाया गया हैं। इसमें इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप्स को भी शामलि किया गया। पिछले तीन साल से भारतीय सेना इसका परीक्षण करने की तैयारी में थी और अब इसका परीक्षण किया गया है।


Share