सरकार की आलोचना करना देशद्रोही नहीं- अशोक गेहलोत

माइक्रो कंटेनमेंट जोन में जीरो मोबिलिटी सुनिश्चित कर संक्रमण की चेन तोड़ें : मुख्यमंत्री
Share

देश के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 77 वीं जयंती के मौके पर राजीव 2021 समारोह में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार फिर केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला है गहलोत ने कहा कि देश में ऐसी सरकार सत्ता में बैठी है जिसे अपनी आलोचना की बर्दाश्त नहीं है |

सरकार की आलोचना करने वालों को देशद्रोही मान लिया जाता है ,जबकि लोकतंत्र में आलोचना और समिति का सम्मान होना चाहिए मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की सोच थी कि लोकतंत्र मजबूत रहना चाहिए देश का भविष्य उज्जवल हो युवाओं को राजनीति में भागीदारी मिले इसके लिए उन्होंने 18 साल के युवाओं को वोटिंग का अधिकार दिया एससी एसटी ओबीसी माइनॉरिटी को पंचायतों में आरक्षण दिया जिससे इन जातियों के लोग सरपंच में और सभापति बने |

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि राजीव गांधी के फैसले देश के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखे जाएंगे। कहना आसान है कि 70 सालों में कांग्रेस ने क्या किया, लेकिन उस दौरान हुए काम और लोकतंत्र की मजबूती के चलते ही वर्तमान में मोदी सरकार सत्ता में है। यह किसी को नहीं भूलना चाहिए। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राजीव गांधी आज होते तो देश का नक्शा ही कुछ और होता। उन्होंने कहा कि आ सकता में बैठे लोगों का काम इतिहास को तोड़ना और बरौंधा है। इतिहास को फोन करो ना और मोड़ना आसान काम होता है, लेकिन बनाना मुश्किल होता है। सीएम गहलोत ने कहा कि पाकिस्तान की तरह कांग्रेस पार्टी ने कभी भी सैन्य शासन लागू नहीं होने दिया, लेकिन आज सभी देख रहे हैं कि वर्तमान सरकार इस तरह से उन! के नाम पर रखी योजनाओं के नामों पर बदल रही है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि पहले देश में आया राम गया राम परंपरा थी। आया राम गया राम की परंपरा को बदलने के लिए कांग्रेस सरकार दल बदल कानून लेकर आए। लेकिन आज भी कुछ लोग हैं जो इस कानून की धज्जियां उड़ाने में लगे हैं। शासन करने वालों ने अब इस का नया तरीका निकाल लिया है। विधायकों के इस्तीफा दिलवा दीजिए और फिर विधायकों को वापस खड़ा। करवा दीजिए और धनबल के आधार पर चुनाव जीतकर आ जाएंगे। आज देश में चुनी हुई सरकार है, बदली जा रही हैं। देश के ऐसे हालातों में चल रहा है या आज की पीढ़ी को समझना होगा। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि यह लोग देश की पुरानी परंपराओं की बात करती हैं लेकिन? खुद की आलोचना सहन नहीं होती है।


Share