कोवाक्सिन-कोविशील्ड को 96 देशों में मान्यता- देश में लगीं 109 करोड़ से अधिक खुराकें

कोवाक्सिन प्रभावी रूप से Second Mutant Strain को बेअसर करता है
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ भारत में दो टीके तैयार किए गए हैं। इनमें से एक स्वदेशी कोवाक्सिन है जिसे हैदराबाद की भारत बायोटेक ने बनाया है और दूसरी कोविशील्ड है जिसे विकसित किया है ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनेका ने और इसका उत्पादन भारतीय सीरम संस्थान कर रहा है। अब तक इन दोनों टीकों को दुनिया भर के 96 देश मान्यता दे चुके हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने मंगलवार को कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने आठ टीकों को आपात उपयोग सूची (ईयूएल) को जगह दी है। हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि इनमें भारत के दोनों टीके कोवाक्सिन और कोविशील्ड भी शामिल हैं। इसके बाद से दुनिया भर के 96 देशों की ओर से इन दोनों टीकों को मान्यता दी जा चुकी है।

भारत में फिलहाल ऐसी है टीकाकरण की स्थिति

देश में अब तक कोरोना रोधी टीकों की 109 करोड़ से अधिक खुराकें लगाई जा चुकी हैं। अकेले मंगलवार की बात करें तो शाम पांच बजे तक देशभर में 48.73 लाख से ज्यादा खुराकें लगाई जा चुकी हैं। देश में अब तक 74 करोड़ 49 लाख 78 हजार 288 लोगों को टीके की पहली और 35 करोड़ 6 लाख 70 हजार 932 लोगों को दोनों खुराकें लगाई जा चुकी हैं।

राज्यों के पास हैं टीकों की 15.92 करोड़ खुराकें- देश में लगीं 109 करोड़ से अधिक खुराकें

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के पास अब भी कोविड टीकों की 15.92 करोड़ खुराकें मौजूद हैं। मंत्रालय ने कहा कि राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को अब तक टीकों की 116 करोड़ से अधिक खुराकें मुहैया कराई जा चुकी हैं और उपलब्धता बरकरार रख कर टीकाककरण अभियान की गति बढ़ाई जा रही है।


Share