राजस्थान में नए सीएम के चयन का काउंट-डाउन शुरू, आज कांग्रेस विधायक दल की बैठक, माकन-खडग़े टटोलेंगे विधायकों का मन

Count-down for selection of new CM starts in Rajasthan
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)।  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष का नामांकन करने से पहले राजस्थान के नए सीएम के चयन की एक्सरसाइज शुरू हो गई है। रविवार शाम 7 बजे सीएम निवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में कांग्रेस के राजस्थान प्रभारी अजय माकन और वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खडग़े मौजूद रहेंगे। माकन और खडग़े विधायकों के साथ चर्चा करके नए सीएम के नाम पर राय जानेंगे। मुख्यमंत्री पद के लिए सचिन पायलट और सीपी जोशी के नाम की चर्चाएं भी तेज हो गई हैं। हालांकि, अब भी 19-20 के लेवल पर बात करें तो फिलहाल पायलट ही 20 नजर आ रहे हैं। गहलोत 28 सितंबर को कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव के लिए नामांकन दाखिल कर रहे हैं। इससे पहले विधायक दल की बैठक में प्रदेश प्रभारी और खडग़े की मौजूदगी ने सियासी चर्चाओं को बल दे दिया है।

गहलोत के नामांकन में पार्टी के विधायकों और वरिष्ठ नेताओं को दिल्ली पहुंचने को कहा गया है। कांग्रेस विधायक और मंत्री 27 सितंबर को ही दिल्ली पहुंच रहे हैं। इससे पहले प्रदेश प्रभारी और मल्लिकार्जुन खडग़े की मौजूदगी में विधायक दल की बैठक बुलाने को नए सीएम की एक्सरसाइज से जोड़कर देखा जा रहा है।

गहलोत खुद सीएम पद छोडऩे का संकेत दे चुके

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद अध्यक्ष बनने पर सीएम पद छोडऩे की बात कह चुके हैं। गहलोत ने कहा था कि अध्यक्ष पद के साथ सीएम रहना इस अहम पद के साथ न्याय नहीं होगा। ऐसे में अब यह तय हो गया है कि गहलोत सीएम पद से इस्तीफा देंगे। गहलोत अध्यक्ष पद के नामांकन पर इस्तीफा देते हैं या चुनाव जीतने के बाद अब इस पर चर्चा शुरू हो गई है। गहलोत समर्थक मंत्री-विधायक उन्हें दोनों पदों पर रहने की वकालत कर रहे हैं।

माकन-खडग़े विधायकों से नए सीएम पर राय लेंगे

अजय माकन और खडग़े का विधायक दल की बैठक में आने का मकसद नए सीएम के नाम पर विधायकों का मन टटोलना माना जा रहा है। दोनों नेता विधायक दल की बैठक में नए सीएम चेहरे के दो से तीन नामों के बारे में राय जानेंगे और फिर हाईकमान को रिपोर्ट सौंपेंगे। कांग्रेस में सीएम चयन में यही प्रोसेस अपनाया जाता है।

गहलोत ने एक दिन पहले ही दिए थे रायशुमारी के संकेत

सीएम गहलोत ने कोच्चि और शिरडी दौरे के समय मीडिया से बातचीत मेें कहा था कि नए सीएम पर फैसला पार्टी विधायकों की राय के आधार पर हाईकमान करेगा। सोनिया गांधी और प्रभारी अजय माकन प्रोसेस तय करेंगे। अब प्रभारी माकन और खडग़े विधायक दल की की बैठक में बतौर ऑब्जर्वर बनकर आ रहे हैं।

वेणुगोपाल का ट्वीट- खडग़े-माकन ऑब्जर्वर बनकर आ रहे

कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल के ट्वीट से साफ हो गया कि माकन के साथ खडग़े नए सीएम पर विधायकों की राय जानने आ रहे हैं। विधायक दल की बैठक मेें हाईकमान ऑब्जर्वर बनाकर नेताओं को तभी भेजता है जब नए सीएम का चयन करना हो।

दोबारा रिपीट होगी 2018 की कहानी?

प्रदेश में एक बार फिर कांग्रेस की जीत के बाद 2018 में बनी स्थिति रिपीट होती दिखाई दे रही है। जब आलाकमान को मुख्यमंत्री पद के लिए अशोक गहलोत या सचिन पायलट में से एक को चुनना था। मुख्यमंत्री चुनने के लिए जयपुर में तीन दिन तक विधायकों के साथ सलाह की गई थी। अब आलाकमान के सामने सचिन पायलट और सीपी जोशी का नाम है। हालांकि, पूरे विश्वास के साथ यह भी कोई नहीं कह सकता कि तीसरे चेहरे की एंट्री नहीं हो सकती। लेकिन फिलहाल पॉलिटिकल सिनेरियो में कोई मजबूत तीसरा चेहरा नजर नहीं आ रहा है।

चर्चा है कि गहलोत ने सोनिया-राहुल से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री पद छोडऩे के संकेत दिए। सूत्रों के अनुसार दोनों ने गहलोत को मुख्यमंत्री पद छोड़ कर राष्ट्रीय अध्यक्ष पद को संभालने को कहा। राजनीति के पंडित ये भी दावा कर रहे हैं कि जब मुख्यमंत्री पद को लेकर बात हुई तो गहलोत ने दोनों को सीपी जोशी का नाम सुझाया।


Share