अनलॉक के दौरान कोरोना नियमों की अनदेखी नहीं होगी बर्दाश्त

केरल-महाराष्ट्र में कोरोना के 70% एक्टिव केस
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। गृह मंत्रालय ने राज्य, केंद्र शासित प्रदेशों को किसी तरीके की ढिलाई ना बरतने की नसीहत दी है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने शनिवार को सभी सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखकर आगाह किया कि अनलॉक के तहत ऐसी कोई भी कोताही ना बरती जाए कि जिससे कोरोना का प्रसार फिर से बढऩे लगे। चि_ी में सभी राज्यों को बताया गया है कि पाबंदियों में छूट देते समय वे टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट और वैक्सीनेशन यानी 3टी प्लस वी फॉर्मूले का ध्यान रखें।

राज्यों को निर्देश
ठ्ठ पाबंदियों में छूट देते समय टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट और वैक्सीनेशन यानी 3टी प्लस वी फॉर्मूले का रखें ध्यान
ठ्ठ कोरोना प्रोटोकॉल का रखा जाए विशेष ध्यान
ठ्ठ सामाजिक दूरी और बंद जगहों में वेंटिलेशन के ऊपर भी करें काम
ठ्ठ जांच दर में नहीं आनी चाहिए गिरावट
ठ्ठ प्रतिबंधों में ढील मिलते ही कोरोना नियमों का नहीं रखा जा रहा ध्यान
ठ्ठ कोरोना के खिलाफ टीकाकरण ही एकमात्र सबसे बड़ा हथियार
ठ्ठ यह संक्रमण की चेन तोडऩे में सबसे ज्यादा मददगार है

टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट रणनीति : टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट रणनीति पर ध्यान देने का निर्देश गृह मंत्रालय ने कहा कि राज्य, केंद्र शासित प्रदेश यह सुनिश्चित करें कि लॉकडाउन खोलने की प्रक्रिया सावधानीपूर्वक व्यवस्थित हो। राज्यों से कहा गया कि लॉकडाउन खोलते समय कोविड अनुकूल व्यवहार, जांच-निगरानी-इलाज, टीकाकरण की रणनीति अपनाना अत्यधिक महत्वपूर्ण है। हालांकि कुछ राज्यों में पाबंदियों में ढील देने से बाजारों में कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन किए बगैर लोगों की भीड़ जमा हो गयी ।

टीकाकरण पर दिया जोर : गृह मंत्रालय ने अपने पत्र में कहा कि संक्रमण की श्रृंखला तोडऩे के लिए कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण अहम है, राज्य और केंद्र शासित प्रदेश टीकाकरण की गति तेज करें। कोविड प्रोटोकॉल को पूरी मुस्तैदी के साथ लागू करने के साथ ही ट्रेस्ट, ट्रैक, ट्रीट की सरकार की नीति को भी जिलास्तर पर मुस्तैदी से लागू करने का निर्देश दिया गया।


Share