प्रदेश में फिर बढऩे लगे कोरोना के मरीज – एक्टिव केस की संख्या 101 पर पहुंची, 9 नए केस आए

कोरोना की दूसरी लहर : 3007 पॉजिटिव मिल
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। राजस्थान में कोरोना के शुक्रवार को 9 केस आए हैं। एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर 101 हो गई। सबसे ज्यादा 3 मामले राजधानी जयपुर में मिले हैं। दीपावली से पहले राजस्थान में एक्टिव केसों की संख्या बिहार, रूक्क, क्क जैसे बड़े राज्यों से भी कम थी, लेकिन यह अब इन राज्यों से भी ज्यादा हो गई। राज्य में बढ़ते केसों को देखते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को पॉजिटिव मिलने वाले व्यक्तियों की कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग और टेस्टिंग बढ़ाने के निर्देश दिए है। इसके अलावा उन्होंने बूस्टर डोज के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखने की बात कही है।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट को देखे तो आज कुल 3 मरीज रिकवर हुए है, लेकिन एक्टिव केसों की संख्या 95 से बढ़कर 101 हो गई। सबसे ज्यादा 62 एक्टिव केस जयपुर में है। आज जयपुर के अलावा अजमेर और अलवर में 2-2 और नागौर, उदयपुर में एक-एक मरीज मिला है। हालांकि राहत की बात ये है कि आज किसी भी मरीज की कोरोना से मौत नहीं हुई है। इससे पहले जयपुर में गुरुवार को एक ढाई साल के बच्चे की मौत के बाद चिकित्सा विभाग में हड़कंप मच गया था। इसे देखते हुए सीएमएचओ जयपुर की टीम चौंमू पहुंचकर मृतक बच्चे के परिजन और उनसे संपर्क में आए सभी 16 लोगों को होम क्वारैंटाइन किया है। दीपावली के बाद से राजस्थान में केसों की संख्या बढऩे लगी है।

19 दिन में राजस्थान में 148 मरीज

राजस्थान में अक्टूबर के महीने में 102 मरीज मिले थे जो पिछले साल कोरोनाकाल में किसी महीने आए सबसे कम मरीजों की संख्या थी। इस साल मई के बाद कोरोना केसों की संख्या में धीरे-धीरे कम होने लगी थी, हालांकि नवंबर में अब यह केस वापस बढऩे लगे है। नवंबर में 19 दिन के अंदर अब तक 148 केस मिल चुके है और एक मौत भी हो चुकी है।

स्कूल खुलने के बाद चपेट में आने लगे बच्चे

त्यौहार सीजन के बाद से लापरवाही ज्यादा बढ़ी और उसके कारण केस ज्यादा आने लगे है। विशेषज्ञों की माने तो दीपावली त्यौहार पर बड़ी संख्या में प्रवासी राजस्थानियों व दूसरे प्रदेशों के लोगों का आना-जाना हुआ है। इस कारण भी कोरोना के केस बढ़े है, क्योंकि उनकी रेंडम टेस्टिंग नहीं हुई। अब शादी-समारोह का सीजन है और इसमें भी फुल कैपेसिटी के साथ मेहमानों को आने की अनुमति दे दी है। ऐसे में यहां भी कोरोना के केस बढऩे की आशंका ज्यादा है। क्योंकि पिछले दिनों जो दो बच्चे पॉजिटिव हुए थे, उनके बच्चे कुछ दिन पहले ही शादी-समारोह में शामिल हो कर लौटे थे, जिसके बाद वे पॉजिटिव आए थे।


Share