जम्मू शहर में बड़े पैमाने पर धमाकों की साजिश का पर्दाफाश: धमाका होता तो 100 से अधिक मारे जाते

सीआरपीएफ टीम पर आतंकी हमला, 2 जवान शहीद
Share

जम्मू (एजेंसी)। केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा कि जम्मू शहर में बड़े पैमाने पर धमाकों की साजिश का पर्दाफाश होने से बड़ा आतंकी हमला टल गया है। इन धमाकों में 100 से अधिक लोगों को मारने की साजिश रची गई थी।

कठुआ में पुलिस ट्रेनिंग स्कूल में आयोजित दीक्षांत समारोह के उपरांत पत्रकारों से बातचीत में डीजीपी ने कहा कि कश्मीर में आने वाले दिनों में आतंकियों के साथ एनकाउंटर और बढ़ेंगे,लेकिन हमारी कोशिश है जो लोग अमन के और आम लोगों और बेगुनाहों की जान के दुश्मन है या फिर आतंकी और दहशतगर्दी में शामिल हैं और वो कुछ देशद्रोही एजेंसियों के साथ मिलकर जम्मू और कश्मीर को आतंकी गतिविधियों में धकेलना चाहते हैं उन्हें खत्म किया जाए, ये सिलसिला जारी है और इसे और तेज किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि सीमा पर सीजफायर की उल्लंघना नहीं हो रही है,लेकिन पाक में बैठे लश्कर ए तैयबा एवं जैश ए मोहम्मद जैसे आतंकी संगठन सीमा पार से आईडी और हथियार आदि जहां भेजने की नापाक योजनाओं को अभी भी वहां से बैठकर अंजाम देने में लगे हैं । उन्होंने कहा कि कुछ दिनों से सीमा पार पाकिस्तान से भेजे गए भारतीय क्षेत्र में ड्रोन की घटनाओं में इजाफा हुआ है,जो एक नई चुनौती है, हालांकि इसमें एक महत्वपूर्ण प्रतिष्ठान पर हमला भी हुआ,भविष्य में ड्रोन हमलों और घुसपैठ को रोकने के लिए सभी सुरक्षा एजेंसियों के साथ मिलकर प्लान बनाया जा रहा है, जिसका जहां खुलासा करना सुरक्षा की दृष्टि से ठीक नहीं है, लेकिन सीमा पार आतंकी संगठनों की किसी भी नापाक योजना को असफल बनाने में सुरक्षा बल पीछे नहीं हटेंगे।

उन्होंने बताया कि 27 जून को नरवाल क्षेत्र में पकड़ा गया लश्कर के हिट स्कवाड द रजिस्टेंस फ्रंट टीआरएफ के आतंकी नदीम उल हक ने जम्मू को दहलाने की साजिश रची थी। पुलिस ने बड़ी सतर्कता से इस आतंकी वारदात को टाल दिया। इस आतंकी ने जम्मू शहर के भीड़ भाड़ वाली जगहों पर धमाके करने की साजिश रची थी।


Share