महंगाई पर कांग्रेस का संसद से सड़क तक हल्लाबोल, राहुल-प्रियंका समेत कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को हिरासत में लिया

महंगाई पर कांग्रेस का संसद से सड़क तक हल्लाबोल, राहुल-प्रियंका समेत कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को हिरासत में लिया
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कांग्रेस ने महंगाई, जीएसटी और केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ शुक्रवार को सुबह से ही संसद से सड़क तक प्रदर्शन किया। इस बार कांग्रेस की अलग ही स्ट्रैटेजी दिखी। सबसे पहले सोनिया ने कांग्रेसी सांसदों के साथ संसद में काले कपड़े पहनकर जमकर नारेबाजी की। उसके बाद, राहुल संसद से राष्ट्रपति भवन तक मार्च निकालने के लिए निकले, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया और हिरासत में ले लिया। इसके बाद, पार्टी मुख्यालय में मौजूद प्रियंका गांधी ने मोर्चा संभाला और वे अपने सांसदों के साथ प्र.म. आवास घेरने के लिए निकलीं, लेकिन यहां भी पुलिस ने उन्हें आगे नहीं बढऩे दिया। नतीजन, वे सड़क पर ही धरने पर बैठ गईं। पुलिस ने उन्हें भी हिरासत में ले लिया।

काले कपड़ों में कांग्रेस का जंगी प्रदर्शन

कांग्रेस पार्टी ने महंगाई, जीएसटी और केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ शुक्रवार को काले कपड़ों में संसद से सड़क तक जबरदस्त प्रदर्शन किया। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी काली पोशाक पहन कर आईं थीं। उन्होंने अपनी पार्टी के सांसदों के साथ संसद में जमकर नारेबाजी की। कांग्रेस नेता राहुल गांधी को संसद से राष्ट्रपति भवन तक मार्च के लिए निकलते ही पुलिस ने हिरासत में ले लिया। पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, अधीर रंजन चौधरी, मल्लिकार्जुन खडग़े सहित अन्य कई कांग्रेस सांसदों को विरोध के रूप में काले कपड़े पहने हुए देखा गया। जैसे ही कांग्रेस नेता संसद के गेट नंबर एक पर एकत्र हुए। श्रीमती गांधी ने नारे लगाते हुए सांसदों का नेतृत्व किया। इसके बाद कांग्रेस सांसदों  राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को एक ज्ञापन सौंपने के लिए संसद परिसर के बाहर निकलकर राष्ट्रपति भवन की ओर जाने लगे।  संसद के गेट के ठीक बाहर धरना प्रदर्शन कर रहे सांसदों को रोकने के लिए पुलिस ने भारी अवरोधकों को लगा रखा था। जैसे ही कांग्रेस नेता एवं सांसद वहां पहुंचे पुलिस ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी समेत कई सांसदों को हिरासत में लिया।

गांधी ने इसे ‘लोकतंत्र की हत्या’ करार दिया। उन्होंने कहा कि मीडिया ने अपने कर्तव्य का निवर्हन करते हुए पुलिस और कांग्रेस नेताओं के बीच धक्का-मुक्की के बीच उनका बयान लिया।

पुलिस द्वारा उन्हें रोकने और सांसदों के साथ दुव्र्यवहार के बारे में पूछे जाने पर गांधी ने कहा, हम यहां पर खड़े है और पुलिस हमें आगे बढऩे की अनुमति नहीं दे रही है। उन्होंने (पुलिस ने) हमारे सांसदों को घसीटा और हिरासत में लिया है, और तो और कुछ को पीटा भी गया है।

इसके बाद कांग्रेस के 24 अकबर रोड स्थित मुख्यालय में श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा ने प्रदर्शन का नेतृत्व किया। जब वह अपने सांसदों के साथ प्रधानमंत्री आवास घेरने के लिए निकलीं लेकिन पुलिस ने उन्हें आगे नहीं बढऩे दिया। जिसके बाद वह कांग्रेस मुख्यालय के सामने सड़क पर ही घरने पर बैठ गईं। प्रियंका वाड्रा ने पुलिस से कहा कि वह सरकार से समझौता करने नहीं बैठी हैं। महंगाई का विरोध करके जनता की आवाज उठाना उनका हक है। पुलिस ने उन्हें भी हिरासत में ले लिया। इस दौरान अजय माकन, सचिन पायलट, हरीश रावत, अविनाश पांडे सहित कांग्रेस के सभी बड़े नेताओं को हिरासत में लिया गया।

कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की बड़ी संख्या को देखकर अकबर रोड पर भारी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी। पुलिस ने कई स्तरों पर जवानों को तैनात किया था। किसी भी कार्यकर्ता अंदर नहीं जाने दिया गया। दिल्ली पुलिस हिरासत में लिए गए कांग्रेस नेताओं को ङ्क्षकग्सवे कैंप पुलिस लाइन लेकर गयी। राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खडग़े, सांसद जयराम रमेश और श्रीमती रंजीत रंजन सहित अन्य कांग्रेसी सांसदों को भी वहीं ले जाया गया। (शेष पेज 8 पर) कांग्रेस के प्रदर्शन को देखते हुए जंतर-मंतर इलाके को छोड़ पूरी दिल्ली में धारा 144 लागू लगाई गई है। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि सरकार हमें महंगाई के खिलाफ विरोध करने से रोकना चाहती है, इसलिए लगातार कांग्रेस नेताओं को परेशान कर रही है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, आप समझ लें कि देश में क्या हालात हैं। किसी ने नहीं सोचा होगा कि देश में लोगों को लोकतंत्र समाप्त होते देखना होगा। देश में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी), आयकर, केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) का आतंक है। देश में दिल्ली, जयपुर, पटना, मुंबई, भोपाल आदि अनेक स्थान पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने महंगाई के खिलाफ उग्र प्रदर्शन किया।


Share