बिन पतवार मंझधार में फंसी कांग्रेस – फुल-टाइम अध्यक्ष चुनना ही होगा : शशि थरूर

Tharoor embroiled in controversy as soon as he filed nomination, the entire Jammu and Kashmir is not visible in the map of India in the manifesto
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कांग्रेस सांसद शशि थरूर का मानना है कि कांग्रेस को अपनी छवि बचाने के लिए पूर्णकालिक अध्यक्ष चुनना ही होगा। उन्होंने रविवार को कहा कि जनता के बीच पार्टी की छवि ‘दिशाहीनÓ दल की हो चली है, इसे तोडऩे के लिए एक फुल-टाइम अध्यक्ष की जरूरत है। थरूर ने यह भी कहा कि राहुल गांधी ने में वह ‘दम और काबिलियत है कि वह पार्टी को फिर से लीड कर सकते हैं। हालांकि उनके मुताबिक, अगर राहुल फिर अध्यक्ष नहीं बनना चाहते तो कांग्रेस को नया अध्यक्ष चुनने की कवायद शुरू कर देनी चाहिए।

‘सोनिया पर बोझ डालना ठीक नहीं

थरूर ने यह बयान ऐसे वक्त में दिया है जब सोनिया गांधी अंतरिम अध्यक्ष के रूप में एक साल का कार्यकाल पूरा करने वाली हैं। उन्हें पिछले साल 10 अगस्त को राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद, मजबूरी में कमान सौंपी गई थी। थरूर ने कहा, मुझे यकीनन ये लगता है कि हमें अपने नेतृत्व को लेकर स्पष्ट होना चाहिए। मैंने पिछले साल सोनिया जी के अंतरिम अध्यक्ष बनने का स्वागत किया था लेकिन मैं ये भी मानता हूं कि अनिश्चितकाल तक उनसे यह पद संभालने की अपेक्षा रखना ठीक नहीं है।

जल्द से जल्द चुना जाए नया अध्यक्ष

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, हमें जनता के बीच बन रही छवि भी सुधारनी होगी कि कांग्रेस भटक गई है और राष्ट्रीय स्तर पर विपक्ष की भूमिका अदा करने में सक्षम नहीं है। थरूर ने कहा कि पार्टी को जल्द से जल्द लोकतांत्रिक ढंग से पूर्णकालिक अध्यक्ष चुनने की प्रक्रिया शुरू करनी चाहिए। उनके मुताबिक, विजेता उम्मीदवार को इतनी ताकत मिले कि वह पार्टी को संगठन के स्तर पर फिर से खड़ा कर सके।

राहुल गांधी फिर अध्यक्ष बनें तो?

कांग्रेस के भीतर फिर से राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने की मांग जोर पकड़ रही है। इस पर तिरूवनंतपुरम से सांसद थरूर ने कहा कि अगर ऐसा होता है तो अच्छा होगा। उन्होंने कहा, अगर राहुल गांधी फिर से कमान संभालने को तैयार हैं तो उन्हें बस अपना इस्तीफा वापस लेना है। उन्हें दिसंबर 2022 तक के लिए चुना गया था। लेकिन अगर वह ऐसा नहीं चाहते तो हमें ऐक्शन लेना होगा। मेरी निजी राय है कि सीडब्ल्यूसी (कांग्रेस कार्यसमिति) और अध्यक्ष पद के चुनाव से पार्टी को कई फायदे होंगे।


Share