कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव फिर टला

Confidence of Sonia Gandhi: We will come back
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव एक बार फिर टल गया है। सीडब्ल्यूसी ने कोरोना की दूसरी लहर की वजह से देश के हालात को देखते हुए यह फैसला लिया है। सूत्रों के मुताबिक, पहले से तय डेडलाइन के मुताबिक मीटिंग में 23 जून को चुनाव कराने के लिए प्रस्ताव रखा गया, लेकिन राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना की भयावह स्थिति का हवाला देकर कहा कि ऐसे हालात में फिलहाल चुनाव कराना ठीक नहीं होगा। गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा जैसे नेताओं ने भी गहलोत का समर्थन किया। इससे पहले जनवरी में पार्टी ने तय किया था कि पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के बाद जून के अंत तक पार्टी को नया अध्यक्ष मिल जाएगा। हालांकि, इसे टालने के बाद अब चुनाव कब होंगे, इस बारे में फिलहाल कोई जानकारी नहीं दी गई है।

चुनावों में हार पर सोनिया बोलीं- सच का सामना करना होगा

बैठक में 4 राज्यों के चुनाव में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन पर भी चर्चा हुई। अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हार पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा- इस हार पर ध्यान देना होगा। अगर सच्चाई से मुंह फेरा तो सही सबक नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि मैं एक ग्रुप बनाना चाहती हूं, जो इस हार के हर पहलू पर विचार करेगा। हमें ये समझना होगा कि केरल और असम में क्यों हारे। बंगाल में हमारे हाथ कुछ भी क्यों नहीं लगा। ये कड़वे अध्याय हैं, लेकिन हम सच का सामना नहीं करेंगे और सही तथ्यों को नजरंदाज करेंगे तो सही सबक हासिल नहीं कर पाएंगे।

2019 में राहुल ने इस्तीफा दिया, सोनिया कार्यकारी अध्यक्ष बनीं

इससे पहले 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार के बाद राहुल गांधी ने पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद सोनिया गांधी ने बतौर कार्यकारी अध्यक्ष फिर से पार्टी की कमान संभाली थी। इसके बाद से ही कांग्रेस नेताओं का एक गुट फुलटाइम और एक्टिव प्रेसिडेंट चुनने की मांग कर रहा है। वहीं, गांधी परिवार से अलग अध्यक्ष बनाने की मांग भी उठती रही है।


Share