राजस्थान में दलित-जाट कार्ड से यूपी-पंजाब की 94 सीटें साधने की तैयारी में कांग्रेस

राजस्थान में दलित-जाट कार्ड से यूपी-पंजाब की 94 सीटें साधने की तैयारी में कांग्रेस
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार की नई कैबिनेट से कांग्रेस ने भले ही गुटबाजी को साधने का प्रयास किया है, लेकिन इसके जरिए प्रदेश से बाहर के भी सामाजिक समीकरणों पर पार्टी की नजर है। कांग्रेस ने नई कैबिनेट में जाट समुदाय के 5 और दलित बिरादरी के 4 नेताओं को जगह दी है। माना जा रहा है कि इससे कांग्रेस ने पंजाब से लेकर यूपी तक संदेश देने का प्रयास किया है। उत्तर प्रदेश में जाट बिरादरी के दबदबे वाले मुजफ्फरनगर, बिजनौर, मेरठ, सहारनपुर, मथुरा और अलीगढ़ समेत कई जिलों में करीब 100 सीटें हैं। इनमें से भी 60 से ज्यादा सीटों पर जाट समुदाय के मतदाता हार और जीत तय करने की स्थिति में हैं।

ऐसे में माना जा रहा है कि कांग्रेस ने जाट समुदाय के नेताओं को मंत्री बनाकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश को साधने का प्रयास किया है। किसान आंदोलन के चलते जाट समुदाय के लोगों की भाजपा से नाराजगी की चर्चाएं चलती रही हैं। इसके अलावा लखीमपुर खीरी कांड के बाद प्रियंका गांधी काफी सक्रिय नजर आई थीं। इसलिए कांग्रेस की रणनीति है कि प्रियंका गांधी की ओर से दिखाई गई सक्रियता और जाटों की नाराजगी के मुद्दे को वह भुना पाए। इसके अलावा दलित बिरादरी के 4 मंत्रियों को कैबिनेट में शामिल कर कांग्रेस ने पंजाब में भी संकेत देने का प्रयास किया है, जहां 34 सीटें दलितों के लिए सुरक्षित हैं। कुल 117 विधानसभा वाले पंजाब में 34 सुरक्षित सीटें नतीजे तय करने में अहम हैं।

पंजाब में दलित समुदाय के चरणजीत सिंह चन्नी को सीएम बनाकर बड़ा संकेत देने वाली कांग्रेस ने अब राजस्थान में भी दलित कार्ड चला है। इससे वह यह संदेश देने की कोशिश में है कि दलित समुदाय को वह उचित प्रतिनिधित्व देने वाली पार्टी है। बता दें कि पंजाब में अकाली दल और बसपा का गठबंधन है। दोनों मिलकर दलित वोटों पर दावेदारी कर रहे हैं, लेकिन अब कांग्रेस सीएम चन्नी और राजस्थान कैबिनेट में दलितों की संख्या बढ़ाकर संदेश देने का प्रयास कर रही है। यही नहीं 15 कैबिनेट मंत्रियों में कांग्रेस ने तीन महिलाओं को भी शामिल किया है। यह पहला मौका है, जब राजस्थान की कैबिनेट में तीन महिलाओं को कांग्रेस ने शामिल किया है।

जाट और दलित समुदाय के इन नेताओं को कांग्रेस ने दिया मौका

कांग्रेस सरकार में चार नए जाट विधायकों हेमाराम चौधरी, रामलाल जाट, विश्वेन्द्र सिंह और बृजेंद्र ओला को कैबिनेट मिनिस्टर बनाया गया है। इसके अलावा 4 दलित विधायक भी कैबिनेट में शामिल हैं। इनमें ममता भूपेश, भजनलाल जाटव, टीकाराम जूली और गोविंद मेघवाल शामिल हैं। इनमें से तीन ममता, भजनलाल और टीकाराम को राज्य मंत्री से प्रमोट कर कैबिनेट मंत्री बनाया गया है।


Share