सबसे खराब दौर से गुजर रही कांग्रेस, 24 घंटे काम करने वाले नेतृत्व की जरूरत

सबसे खराब दौर से गुजर रही कांग्रेस
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कांग्रेस में नेतृत्व बदलने की मांग को लेकर लिखी गई चि_ी पर अब तक घमासान जारी है। इस बीच कपिल सिब्बल ने कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक के बाद अपने पहले इंटरव्यू में कहा कि ऐसे समय में जब कांग्रेस अपने ऐतिहासिक रूप से सबसे खराब दौर से गुजर रही है, पार्टी को ऐसे नेतृत्व की आवश्यकता है तो 24 घंटे काम करने को तत्पर रहे। सिब्बल उन 23 नेताओं में शामिल हैं, जिन्होंने कांग्रेस पार्टी में नेतृत्व बदलने समेत व्यापक सुधार की मांग को लेकर विवादास्पद चि_ी लिखी। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को 7 अगस्त चि_ी लिखी गई थी।

एक इंटरव्यू में सिब्बल ने कहा, अगर लोगों तक यह चि_ी पहुंची है तो उन्हें पता चल जाएगा कि यह गांधी परिवार सहित किसी का भी अपमान करने का प्रयास नहीं है। वास्तव में हमने अब तक नेतृत्व द्वारा प्रदान की गई सेवाओं की सराहना की है।

‘हमारा इरादा पार्टी को पुनर्जीवित करना

कपिल सिब्बल ने कहा, हमारा इरादा पार्टी को पुनर्जीवित करना है। हम इसके पुनरूद्धार में भागीदार बनना चाहते हैं। यह पार्टी संविधान और कांग्रेस की विरासत के प्रति हमारी प्रतिबद्धता है और पूर्ण विश्वास है कि कांग्रेस को एक ऐसी सरकार का विरोध करने के लिए एक-दूसरों का सहयोग करने आवश्यकता है, जिसने उस बुनियाद को बर्बाद किया है, जिस पर भारतीय गणतंत्र बना है।

‘सबसे खराब दौर में कांग्रेस

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ऐतिहासिक रूप से अपने सबसे खराब दौर से गुजर रही है और 2014 और 2019 के चुनाव परिणाम यह दर्शाते हैं।

‘कांग्रेस को मजबूत करने के लिए चि_ी

सिब्बल ने कहा, मुझे लगता है कि इस चि_ी को सबके पास सर्कुलेट किया जाता तब वे सभी जो सीडब्ल्यूसी की बैठक में मौजूद थे, महसूस कर पाते कि यह (पत्र) कांग्रेस को मजबूत करने और पुनर्जीवित करने के बारे में है। उन लोगों में से एक ने भी ‘देशद्रोही शब्द का इस्तेमाल किया। काश उस बैठक में उपस्थित लोगों ने उसे फटकार लगाई होती।

सिब्बल ने कहा, पार्टी संविधान के मद्देनजर संगठन की कुछ चीजों को फिर से स्थापित करने की जरूरत है। मुझे पार्टी और इसके संविधान का थोड़ा ज्ञान है। पार्टी के संविधान के हिसाब से कई ऐसी चीजें लाए जाने की जरूरत है जो कि अभी तक यहां नहीं है। पत्र का इरादा और भाषा का संर्दभ पार्टी संरचना से था न कि जगह से।

‘जितिन प्रसाद के विरोध से दुखी

वरिष्ठ अधिवक्ता सिब्बल ने निराशा व्यक्त की कि जितिन प्रसाद को बुधवार को उत्तर प्रदेश में एक कांग्रेस जिला समिति द्वारा टारगेट किया गया जो पत्र पर हस्ताक्षर करने के लिए उनके खिलाफ कार्रवाई चाहते थे। उन्होंने कहा, यह या तो चाटुकारों द्वारा किया गया हमला है या उन लोगों का मनोबल गिराने का निर्देश है, जिनकी अंतरात्मा ने उन्हें बोलने दिया। यह गंभीर चिंता का विषय है क्योंकि यहां ऑडियो और वीडियो हैं, जो साबित करते हैं कि जितिन प्रसाद को किसी उच्च पद पर बैठे शख्स के इशारे पर टारगेट किया गया था। हालांकि, उन्होंने इस पर विस्तार से कुछ नहीं बताया।

‘हम दिल से कांग्रेसी हैं

यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें भी निशाना बनाए जाने की आशंका है, सिब्बल ने कहा कि हमें कोई डर नहीं है। हम दिल से कांग्रेसी हैं और हम बिना किसी डर के कांग्रेसी बने रहेंगे। सिब्बल ने कहा मैं और भाजपा उत्तरी ध्रुव और दक्षिणी ध्रुव हैं। हम कांग्रेस की विचारधारा के पक्षधर हैं और मौजूदा व्यवस्था (केंद्र में) का डटकर विरोध करते हैं।
बता दें कि कांग्रेस पार्टी जनवरी में होने वाली अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की बैठक में अपने नए अध्यक्ष का चुनाव करेगी। वहीं, गुरूवार को एक साक्षात्कार में गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस के अगले अध्यक्ष नियुक्त करने के बजाय चुनाव कराने पर जोर दिया।


Share