पंजाब के कांग्रेस उम्मीदवारों की राजस्थान में बाड़ेबंदी की तैयारी

मेवाड़-वागड़ में भाजपा-कांग्रेस बराबरी पर
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)।  पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के रिजल्ट से पहले बाड़ेबंदी की तैयारियां शुरू हो गई हैं। राजस्थान एक बार फिर बाड़ेबंदी का केंद्र बन सकता है। पड़ोसी राज्य पंजाब के कांग्रेस उम्मीदवारों को बाड़ेबंदी के लिए राजस्थान लाए जाने की तैयारी है। कांग्रेस नेताओं ने बाड़ेबंदी के लिए जैसलमेर, जयपुर, रणथंभौर के होटलों को चिन्हित कर लिया है। हरी झंडी मिलते ही उम्मीदवारों को लाया जाएगा।

पंजाब के कई कांग्रेस उम्मीदवार पहले से ही राजस्थान के अलग-अलग टूरिस्ट प्लेस पर आ चुके हैं। राजस्थान में बाड़ेबंदी को लेकर बड़े नेताओं के बीच चर्चा चल रही है। पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश चौधरी पूरे मामले पर नजर रख रहे हैं। बाड़ेबंदी की तैयारी है, लेकिन अभी तक विधायक उम्मीदवारों को सूचना नहीं दी गई है।

बाड़ेबंदी को लेकर पार्टी में दो तरह की बातें आ रही हैं। नेताओं का एक पक्ष यह है कि पहले चुनाव परिणाम आने दिए जाएं। फिर बाड़ेबंदी की जाए। कुछ नेताओं का तर्क है कि रिजल्ट से पहले ही उम्मीदवारों को शिफ्ट कर दिया जाए। पंजाब कांग्रेस के उम्मीदवारों की बाड़ेबंदी पर एक-दो दिन में फैसला होने की संभावना है।

प्रभारी का फिलहाल बाड़ेबंदी से इनकार : पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश चौधरी ने भास्कर से कहा- पंजाब के उम्मीदवारों की बाड़ेबंदी पर अभी कोई फैसला नहीं हुआ है। पंजाब में विरोधी बेवजह कई तरह की चर्चाएं कर रहे हैं। हम सोच-समझकर फैसला करेंगे। दूसरी तरफ, कांग्रेस सूत्रों का दावा है कि अंदरखाने बाड़ेबंदी की तैयारियां पूरी कर ल गई हैंं। पंजाब कांग्रेस के नेता भी बाड़ेबंदी पर चर्चा कर चुके हैं। फिलहाल रणनीति के तहत बाड़ेबंदी से इनकार किया जा रहा है।

राहुल गांधी के साथ बैठक में भी बाड़ेबंदी पर चर्चा : 27 फरवरी को राहुल गांधी ने राजस्थान ष्टरू अशोक गहलोत और छत्तीसगढ सीएम भूपेश बघेल के साथ बैठक कर पोस्ट पोल रणनीति पर चर्चा की थी। इसमें बाड़ेबंदी का मुद्दा भी शामिल था। पंजाब, उत्तराखंड, गोवा की बाड़ेबंदी की जिम्मेदारी राजस्थान को ही देने पर चर्चा हुई।

 


Share