जयपुर-कोटा में अपना महापौर बनाने कांग्रेस-भाजपा की कवायद

लद्दाख में भाजपा की बड़ी जीत
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। जयपुर, कोटा एवं जोधपुर में 6 नगर निगम चुनाव में जयपुर हैरिटेज एवं कोटा दक्षिण में किसी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलने से मंगलवार को होने वाले महापौर चुनाव में सत्तारूढ़ कांग्रेस एवं विपक्ष भारतीय जनता पार्टी दोनों प्रमुख राजनीतिक दल अपना महापौर बनाने की कवायद में लगे हुए हैं वहीं पार्षदों की खरीद-फरोख्त करने के आरोप भी लगने लगे हैं।

इस चुनाव में जयपुर हैरिटेज एवं कोटा दक्षिण नगर निगम में दोनों ही प्रमुख पार्टियों के बीच महापौर बनाने की कवायद जारी हैं और खरीद फरोख्त से बचाने के लिए नव निर्वाचित पार्षदों की दोनों की दलों ने बाड़ेबंदी कर रखी हैं। इस बीच सोमवार को कांग्रेस के एक पार्षद ने जयपुर हैरिटेज नगर में भाजपा महापौर प्रत्याशी कुसुम यादव के पति अजय यादव पर पार्षदों की खरीद फरोख्त करने की कोशिश करने का आरोप लगाया हैं। पार्षद ने भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो में भी इसकी शिकायत की है। उन्होंने इस मामले से जुड़े दो कथित ऑडियो रिकार्डिंग भी ब्यूरो को दी हैं।

जयपुर हैरिटेज नगर निगम में महापौर और बोर्ड बनाने के लिए बहुमत के लिए 51 पार्षदों का समर्थन चाहिए। कांग्रेस के 47 पार्षद हैं वहीं भाजपा के 42 पार्षद एवं 11 निर्दलीय पार्षद चुनाव जीतकर आये हैं और किसी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला हैं। कांग्रेस करीब 55 पार्षदों के समर्थन होने का दावा कर रही है। कांग्रेस ने जयपुर हैरिटेज नगर निगम से वार्ड संख्या 43 से पार्षद मुनेश गुर्जर को महापौर की प्रत्याशी बनाया है वहीं भाजपा ने वार्ड संख्या 74 से पार्षद कुसुम यादव को महापौर पद की प्रत्याशी बनाकर महापौर के चुनाव मैदान में उतारा है।

कोटा दक्षिण नगर निगम में 80 सीटों के लिए हुए चुनाव में इन दोनों ही राजनीतिक दलों के 36-36 पार्षद निर्वाचित हुए जबकि आठ निर्दलीय प्रत्याशियों ने चुनाव जीतकर बाजी मारी और परिणाम आने के बाद दोनों ही राजनीतिक दल अपना बोर्ड बनाने का दावा कर रहे हैं। कोटा दक्षिण नगर निगम में राजीव अग्रवाल जबकि भाजपा ने विवेक राजवंशी को महापौर पद के लिए अपना उम्मीदवार बनाया है।


Share