राफेल डील पर कांग्रेस फिर एक्टिव – जांच से बचना चाहते हैं मोदी, क्योंकि मित्रों को बचाना है : राहुल गांधी

चीन से तनाव के बीच कल वायुसेना में होंगे शामिल राफेल
Share

राहुल गांधी ने इंस्टाग्राम पर भी एक पोस्ट की है। इसमें उन्होंने एक तस्वीर पोस्ट की है, एक व्यक्ति का आधा चेहरा है और जिसकी दाढ़ी में राफेल की फोटो है। राहुल ने लिखा है, चोर की दाढ़ी…। राहुल ने किसी का नाम तो यहां पर नहीं लिखा है। पर साफ दिख रहा है कि राहुल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दाढ़ी दिखाई है।

राफेल डील को लेकर कांग्रेस एक बार फिर अटैकिंग मोड पर आ गई है। राहुल गांधी ने रविवार को एक ट्वीट किया। इसमें उन्होंने पूछा कि जॉइंट पार्लियामेंट्री कमेटी (जेपीसी) की जांच से मोदी क्यों बचना चाहते हैं? उन्होंने चार ऑप्शन भी दिए।

  1. मोदी को अपराध बोध है।
  2. वो अपने मित्रों को बचाना चाहते हैं।
  3. जेपीसी को राज्यसभा सीट नहीं चाहिए।
  4. ये सभी विकल्प सही हैं।

कांग्रेस ने कहा : फ्रांस ने जांच के आदेश दिए, दिल्ली चुप क्यों?

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि 59 हजार करोड़ की राफेल डील में मोदी जेपीसी की जांच से क्यों बचना चाहते हैं। फ्रांस सरकार ने राफेल डील में भ्रष्टाचार, लोगों को प्रभावित करना, मनी लॉन्ड्रिंग और फेवरटिज्म जैसे आरोपों की जांच के लिए एक जज को अपॉइंट किया है। पूरी दुनिया और पूरा देश नई दिल्ली की तरफ देख रहा है। वो चुप क्यों हैं?

सुप्रीम कोर्ट में है डील का मामला

फ्रांसीसी मीडिया में ये खबरें आई थीं कि राफेल डील में क्लाइंट को भारी-भरकम रकम दी गई। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट में नई याचिका दाखिल की गई थी। इसमें राफेल डील की स्वतंत्र जांच की मांग की गई थी। तब चीफ जस्टिस एस.ए. बोबडे ने कहा था कि इसकी सुनवाई बाद में की जाएगी। हालांकि उन्होंने किसी तारीख का जिक्र नहीं किया था। सुप्रीम कोर्ट ने दो साल पहले कोर्ट की निगरानी में राफेल डील की जांच की मांग से जुड़ी सभी याचिकाएं खारिज कर दी थीं। 14 दिसंबर 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने इस डील की प्रॉसेस और पार्टनर चुनाव में किसी तरह के फेवर के आरोपों को बेबुनियाद बताया था।


Share