ब्रिटेन में मंकीपॉक्स वायरस का कम्यूनिटी स्प्रेड शुरू, हाई अलर्ट पर सरकार

ब्रिटेन में मंकीपॉक्स वायरस का कम्यूनिटी स्प्रेड शुरू, हाई अलर्ट पर सरकार
Share

लंदन (एजेंसी)। कोरोना के बाद दुनिया एक नई तरह की बीमारी की चेपट में है। इस बीमारी का नाम है मंकीपॉक्स वायरस जिसका अब कम्यूनिटी ट्रांसमिशन हो रहा है। ब्रिटेन में हेल्थ एजेंसी के मुताबिक देश में मंकीपॉक्स वायरस फैलना शुरू हो गया है। यूकेएचएसए के मुख्य चिकित्सा सलाहकार सुसान हॉपकिंस ने कहा- हम ऐसे मामलों का पता लगा रहे हैं जिनका पश्चिम अफ्रीका के किसी व्यक्ति के साथ कोई संपर्क नहीं रहा है फिर भी वो इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस बीमारी से जूझ रहे लोगों के रोज के आंकड़े जुटाए जा रहे हैं। सुसान हॉपकिंस के मुताबिक ग्रामीण इलाकों की अपेक्षा शहरी इलाकों में ये बीमारी तेजी से फैल रही है।

उन्होंने कहा कि इस बीमारी के प्रति लोगों को सतर्क रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा- अधिकांश वयस्कों में इस बीमारी के लक्ष्ण हल्के हो सकते हैं लिहाजा मंकीपॉक्स के लक्ष्ण को अनदेखा ना करें और तुरंत इसकी सूचना निकटतम स्वास्थ्य केंद्र को दें और डॉक्टर से संपर्क करें। गौरतलब है कि ब्रिटेन में 7 मई को पहली बार इस बीमारी के लक्ष्ण एक मरीज में देखने को मिले थे जिसने हाल ही में नाइजीरिया की यात्रा की थी। धीरे-धीरे ये बीमारी अब यूरोप और उत्तरी अमेरिका में भी फैल रही है। मंकीपॉक्स वायरस किसी संक्रमित व्यक्ति का बिस्तर या उसके द्वारा इस्तेमाल किए गए तौलिए के दोबारा इस्तेमाल से फैलता है। इसके लक्षणों में बुखार, मांसपेशियों में दर्द, ठंड लगना, थकावट और हाथों और चेहरे पर चेचक जैसे दाने शामिल हैं। इस बीमारी का कोई अलग उपचार नहीं है लेकिन चेचक के खिलाफ टीकाकरण मंकीपॉक्स को रोकने में लगभग 85 प्रतिशत प्रभावी पाया गया है। यूके के अधिकारी नादिम जाहवी के मुताबिक सरकार ने चेचक के टीके के स्टॉक खरीदना शुरू कर दिया है।


Share