चेस ओलंपियाड का रंगारंग उद्घाटन, पीएम मोदी से बोले सीएम स्टालिन- हमें पता है आपको शतरंज पसंद है

चेस ओलंपियाड का रंगारंग उद्घाटन, पीएम मोदी से बोले सीएम स्टालिन- हमें पता है आपको शतरंज पसंद है
Share

चेन्नई (एजेंसी)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चेन्नई के विशाल जवाहरलाल नेहरू इंडोर स्टेडियम में गुरूवार को 44वें शतरंज ओलंपियाड का उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी। पहली बार भारत में हो रहे शतरंज ओलंपियाड के उद्घाटन समारोह में यहां का नेहरू इंडोर स्टेडियम रोशनी से जगमगाया हुआ है। शतरंज ओलंपियाड के 44वें सत्र के आगाज से पहले चेन्नई के मुख्य इलाके को शानदार तरीके से सजाया गया है।

पीएम को शतरंज पसंद है

44वें शतरंज ओलंपियाड के उद्घाटन के दौरान अपना संबोधन देते हुए तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन ने कहा कि शतरंज ओलंपियाड के कारण राज्य में पर्यटन और उद्योग पनपेगा। उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी के शतरंज के प्रति प्रेम को भी याद किया। स्टालिन ने कहा कि उन्हें पता है कि पीएम को शतरंज पसंद है। उन्होंने कहा कि मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में 20,000 से अधिक खिलाडिय़ों के साथ एक भव्य शतरंज प्रतियोगिता आयोजित की थी।

शतरंज की उत्पत्ति का स्थान है भारत : मोदी

खास आयोजन के लिए प्रधानमंत्री ने तमिलनाडु की खूब तारीफ की। उद्घाटन समारोह के दौरान अपने संबोधन में पीएम ने कहा, मैं भारत में हो रहे 44वें शतरंज ओलंपियाड में आप सभी का स्वागत करता हूं। शतरंज का सबसे प्रतिष्ठित टूर्नामेंट भारत आया है। 44वां शतरंज ओलंपियाड कई प्रथम और रिकॉर्ड का टूर्नामेंट रहा है। उन्होंने कहा कि यह पहली बार है जब शतरंज ओलंपियाड शतरंज की उत्पत्ति के स्थान (भारत में) आयोजित किया जा रहा है। पीएम ने कहा, तमिलनाडु में सुंदर मूर्तियों के साथ कई मंदिर हैं जो विभिन्न खेलों का प्रतिनिधित्व करते हैं। तमिलनाडु का शतरंज से गहरा ऐतिहासिक संबंध है। राज्य ने कई शतरंज मास्टर्स तैयार किए हैं। यह एक जीवंत संस्कृति और सबसे पुरानी भाषा ‘तमिल’ का घर है।

तमिलनाडु का शतरंज से गहरा ऐतिहासिक संबंध

प्र.म. ने कहा कि तमिलनाडु का शतरंज से गहरा ऐतिहासिक संबंध है। यही कारण है कि यह भारत के लिए शतरंज का पावरहाउस है। इसने भारत के कई शतरंज ग्रैंडमास्टर तैयार किए हैं। उन्होंने कहा, मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि भारत में खेलों के लिए वर्तमान से बेहतर समय कभी नहीं रहा। भारत का ओलंपिक, पैरालंपिक और डेफलिंपिक में अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा है। हमने उन खेलों में भी गौरव हासिल किया जहां हम पहले नहीं जीतते थे।

इससे पहले पांच बार के विश्व शतरंज चैंपियन विश्वनाथन आनंद ने ओलंपियाड की मशाल प्र.म. नरेंद्र मोदी और तमिलनाडु के सीएम एम.के. स्टालिन को सौंपी।

इसके बाद मशाल को चेन्नई के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में युवा ग्रैंडमास्टर आर प्रज्ञानानंद और अन्य को सौंपा गया। ओलंपियाड का आयोजन 10 अगस्त तक होगा।


Share