आरएएस परीक्षा को लेकर सरकार के खिलाफ कांग्रेस विधायक, सीएम के सलाहकार ने ही ट्वीट कर जताई नाराजगी, पायलट के नजदीकी सोलंकी, भाकर ने दिया धरना

Congress MLA, CM's advisor expressed displeasure by tweeting against the government regarding RAS exam, Solanki, close to Pilot, Bhakar protested
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददता)। राजस्थान में आरएएस मुख्य परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाने की मांग को लेकर विरोध लगातार बढ़ता जा रहा है। भाजपा के नेताओं के बाद अब कांग्रेस के नेताओं ने भी सरकार से भर्ती परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाने की मांग शुरू कर दी है। मुख्यमंत्री के सलाहकार संयम लोढ़ा ने ट्वीट कर परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाने की मांग की है। वहीं, सचिन पायलट खेमे के नेताओं ने सरकार के खिलाफ धरना देकर छात्रों का समर्थन किया है। इसमें विधायक वेद प्रकाश सोलंकी, लाडनूं विधायक मुकेश भाकर, पूर्व यूथ कांग्रेस अध्यक्ष अभिमन्यु पूनिया, अनिल चोपड़ा समेत कई नेता शामिल हैं। मुख्यमंत्री के सलाहकार विधायक संयम लोढ़ा ने कहा कि सिलेबस में बदलाव की वजह से छात्रों को तैयारी का सही वक्त नहीं मिल पाया है। बाजार में तैयारी के लिए किताबें भी उपलब्ध नहीं थीं। ऐसे में भर्ती परीक्षा की तारीख को आगे बढ़ाकर मुख्य परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को राहत देनी चाहिए। वहीं, सचिन पायलट के नजदीकी विधायक वेद प्रकाश सोलंकी ने आरएएस अभ्यर्थियों के साथ धरना देकर भर्ती परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाने की मांग की।  उन्होंने कहा कि प्री का रिजल्ट जारी होने के बाद सिलेबस में संशोधन किया गया। जिसकी वजह से छात्र मेंस एग्जाम की तैयारी नहीं कर पाए हैं। इसलिए भर्ती परीक्षा की तारीख को आगे बढ़ाना चाहिए।इधर, सोमवार को कांग्रेसी लाडनंू से कांग्रेस विधायक मुकेश भाकर ने भी छात्रों के समर्थन में धरना दिया। उन्होंने कहा कि सिलेबस में हुए बदलाव की वजह से छात्रों को तैयारी के लिए पूरा वक्त नहीं मिल पाया है। इसलिए भर्ती परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाई जानी चाहिए।

इससे पहले आरएएस मुख्य परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाने की मांग को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा, उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ समेत भाजपा के कई विधायक भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिख चुके हैं। बावजूद इसके अब तक सरकार और आरपीएससी की ओर से छात्रों की मांग को लेकर कोई भी फैसला नहीं किया गया है। जिसको लेकर अब सरकार के खिलाफ छात्रों के साथ उनके परिजन भी सड़कों पर उतर आए हैं।


Share