सीएम का दावा : नहीं है सत्ताविरोधी लहर, कहा-कामों से अच्छा माहौल बना, अगली बार फिर कांग्रेस की सरकार बनेगी

CM Gehlot claims:
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तीन साल बाद भी सरकार के खिलाफ किसी तरह की एंटी इंकंबेंसी से इनकार करते हुए फिर से सरकार बनाने का दावा किया है। गहलोत ने कहा- राजस्थान में हमारे कामों से माहौल बना है। जो काम सरकारी मशीनरी, राजनेताओं ने मिलकर किया है, उससे अच्छा माहौल है। आज तीन साल बाद भी सत्ताविरोधी लहर पैदा नहीं हुई है। मुझे यकीन है कि यही माहौल रहा तो अगली बार सरकार वापस कांग्रेस की ही बनेगी। इसी रूप में हम रात दिन काम करते रहेंगे। कोरोना में भी हमने एक दिन भी रेस्ट नहीं किया। गहलोत सीएम निवास पर सरकार के तीन साल पूरे होने पर वर्चुअल लोकार्पण समारोह में बोले रहे थे।

हमने वसुंधरा राजे की कोई योजना बंद नहीं की

गहलोत ने कहा- लोकतंत्र में सरकारें बदलती हैं लेकिन काम बंद नहीं करने चाहिए। हमने वसुंधरा राजे की कोई योजना बंद नहीं की। जबकि उन्होंने कोई हमारी योजना चालू नहीं रखी थी। वसुंधरा राजे जब भी सत्ता में आईं, हमारी योजनाओं को बंद किया। उनकी पार्टी की सोच भी यही है।

रिफाइनरी प्रोजेक्ट 38 हजार से 70 हजार करोड़ का हुआ

गहलोत ने कहा- हमारी सरकार के वक्त पिछली बार शुरू किए गए रिफाइनरी प्रोजेक्ट को पांच साल तक बंद रखा गया। रिफाइनरी का काम बंद नहीं किया होता तो अब तक यह बन चुकी होती। आज हालत यह बन गई कि 38 हजार की योजना 70 हजार करोड़ की योजना बन गई है। हमारे समय किए गए शिलान्यास के बावजूद जब चुनाव आने लगे तो फिर से प्रधानमंत्री को बुलाया गया। हमने जब आवाज उठाई तो फिर रास्ता निकाला गया और फिर कहा गया कि कार्य प्रारंभ करने के अवसर पर पीएम को बुलाया जा रहा है।

राज्यों को फाइनेंशियली कमजोर कर रही है मोदी सरकार

गहलोत ने केंद्र और पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा- प्रधानमंत्री और भारत सरकार को अब राज्यों की चिंता करनी चाहिए। कोरोना का मुकाबला राज्य सरकारों ने किया है। विकास में राज्यों की भूमिका बहुत बड़ी होती हे। केंद्र की नीतियां राज्यों को कमजोर कर रही हैं। केंद्रीय योजनाओं में राज्यों पर भार डाल दियाा है। पहले 80 फीसदी तक पैसा केंद्र देता था। अब 50 फीसदी का भार राज्यों पर डाल दिया है। केंद्रीय करों में राज्यों का हिस्सा भी कम कर दिया है।


Share