लखावली में बादल फटा ! गांव के सभी रास्ते बन गए दरिया

लखावली में बादल फटा ! गांव के सभी रास्ते बन गए दरिया
Share

सावन के पहले दिन तरबतर हुई लेकसिटी, कई छोटे-मोटे एनिकट व तालाब ओवरफ्लो, रपटों पर बहा पानी, थूर की पाल, मदार नहर चली, फतहसागर में आवक शुरू

नगर संवाददाता & उदयपुर | झीलों की नगरी उदयपुर के आस-पास के क्षेत्रों में गुरूवार को तेज बारिश ने कई जगह बाढ़ के हालात पैदा कर दिए। शहर के समीप लखावली-डांगियो का गुड़ा क्षेत्र में इतनी तेज बारिश हुई कि गलियां-चौक, सड़कों पर दरिया बह निकला। लोगों को बादल फटने जैसा अहसास हुआ। ग्रामीणों ने बताया कि उन्होंने पहली बार इतना पानी गांव में बहते हुए देखा। मौसम विभाग के मदार गेज के अनुसार समीपस्थ क्षेत्रों में चार से पांच इंच बारिश दर्ज की गई। इस बारिश का कमाल यह रहा कि पहली पानी चिकलवास फीडर से होते हुए सीधा फतहसागर तक पहुंच गया। रात तक चिकलवास फीडर 2 फीट से ऊपर बह रही थी। झामुडिय़ा की नाल, ईसवाल क्षेत्र में तेज बारिश से थूर की पाल छलक गई। मदार बड़ा भी लबालब होने के करीब पहुंच गया है। अब यह सिर्फ चार फीट खाली है। इसकी भराव क्षमता 24 फीट है। मदार छोटा बांध में भी एक ही दिन में करीब 8 फीट पानी आ गया। अभी इसका जल स्तर 13 फीट है। झाड़ोल और चावंड के तालाब भी छलक गए।

गोगुन्दा-ईसवाल की पहाडिय़ों की झमाझम से पानी थूर की के रास्ते सीधा ही मदार नहर में पहुंच गया। गोगुन्दा क्षेत्र में सवा इंच बारिश दर्ज की गई। उदयपुर-पिंडवाड़ा हाइवे पर जगह-जगह झरने चले तो कुछ जगहों पर पहाड़ों से चट्टानें भी हाइवे की तरफ गिर गईं। शहर के समीप उबेश्वरजी क्षेत्र में मूसलाधर से बड़ी तालाब को भरने वाली नदी में पानी का बहाव तेज रहा। रास्ते पर रपट के ऊपर से पानी बहा जिससे उबेश्वर जी-उदयपुर मार्ग अवरूद्ध रहा। उदयपुर के बाहरी इलाकों में नदियां और नहरें चलने से कई गांव और इलाके पानी से कट गए।

मौसम विभाग के बाढ़ नियंत्रण कक्ष के अनुसार गुरूवार को सबसे ज्यादा चार इंच बारिश मदार पर हुई। इसके अलावा ओगणा व झाड़ोल में सवा इंच, अलसीगढ़ में एक इंच बारिश हुई जबकि उदयपुर शहर में आधा इंच बारिश दर्ज की गई। बीती रात को मावली में 60 और बागोलिया में 86 मिलीमीटर बारिश हुई जबकि बांसवाड़ा के बागीदौरा में सबसे ज्यादा 98 मिलीमीटर बारिश हुई। संभाग में अन्य कई क्षेत्रों में भी तेज बारिश हुई है। इससे नदी नालों में बहाव जारी है।

डूबने से दो जनों की मौत

जलेरी गांव का 42 वर्षीय मेगला खेत पर काम कर लौटते समय रास्ते में पडऩे वाली सामोली नदी में डूब गया। कुछ लोगों ने उसे डूबते देखा मगर बचा नहीं सके। काफी समय बाद उसका शव मिला। गोगुंदा के अमरचंदिया तालाब में डूबने से एक व्यक्ति की मौत हो गई। तालाब पर घूमने के दौरान पैर फिसलने से मौत हो गई।

बिजली गिरने से बालक व किसान की मौत

उदयपुर संभाग में दो अलग-अलग जगह बिजली गिरने से दो जनों की मौत हो गई। प्रतापगढ़ जिले में धरियावद तहसील के विजानिया ग्राम में बिजली गिरने से 12 साल के बालक की मौत हो गई, जबकि बड़ीसादड़ी क्षेत्र में सांगरिया गांव में खेत पर काम करते बिजली गिरने से एक युवा किसान की मौत हो गई।

सीसारमा चली, पिछोला के कैचमेंट में तेज बारिश का इंतजार

पिछोला के कैचमेंट में भी बारिश से पानी की आवक शुरू हुई। सीसारमा नदी भी चल पड़ी। देवास प्रथम,मादड़ी बांध और आकोदड़ा बांध अभी खाली पड़े होने से पिछोला में तेज बहाव से पानी आने में अभी वक्त लगेगा।


Share