एलएसी पर 20 जगह से घुसपैठ कर सकता है चीन

एलएसी पर 20 जगह से घुसपैठ कर सकता है चीन
Share

– खुफिया अलर्ट पर भारत मुस्तैद

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत और चीन के बीच लद्दाख स्थित एलएसी पर पिछले करीब 8 महीनों से तनाव की स्थिति बनी हुई है। चीनी सेना की घुसपैठ के बाद से ही भारत ने उसे रोकने के लिए बर्फबारी के बीच बराबर संख्या में सैनिकों को तैनात किया है। इस बीच खुफिया अलर्ट है कि चीनी सैनिक सर्दी खत्म होते ही बर्फ के पिघलने के बाद 20 संवेदनशील इलाकों में घुसपैठ को अंजाम दे सकते हैं। बताया गया है कि ये इलाके लद्दाख से लेकर अरूणाचल प्रदेश में हैं।

इंटेलिजेंस ब्यूरो से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि जैसे-जैसे चीन से लगी भारत की लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पाकिस्तानी सीमा पीओके जैसी बनती जा रही है, वैसे ही सेना और आईटीबीपी अपनी तैयारियों को मजबूत कर रहे हैं। बताया गया है कि चीन की घुसपैठ की कोशिशों की खुफिया जानकारी मिलने केबाद इन 20 संवेदनशील जगहों पर जरूरत के इंतजाम कर दिए गए हैं।

बता दें कि मौजूदा समय में चीनी और भारतीय सेना लद्दाख के तीन मुख्य इलाकों में आमने-सामने है। इनमें डेपसांग प्लेन्स, पैंगोंग लेक का इलाका और हॉट स्प्रिंग्स शामिल हैं। मई से लेकर अब तक आठ बार दोनों देशों की सेनाओं के बीच बातचीत हो चुकी है। हालांकि, अब तक तनाव कम करने में कोई सफलता नहीं मिली है। माना जा रहा है कि चीनी सेना ने कई विवादित क्षेत्रों पर सेना जमाकर भारत के दावे वाले 1000 वर्ग किमी के इलाके पर कब्जा कर रखा है।

आईबी के अफसर ने कहा, एलएसी पर जमीनी स्थिति को देखते हुए भारतीय सेना और ज्यादा क्षेत्र पीएलए के हाथों नहीं गंवाना चाहती। ऐसे में सेना और आईटीबीपी सभी 20 संवेदनशील जगहों पर नए बॉर्डर पोस्ट बनाने में जुटे हैं। इसके अलावा इन जगहों पर इन्फ्रास्ट्रक्चर क्षमताएं बढ़ाने पर भी काम चल रहा है।

आईटीबीपी के एक अधिकारी ने बताया कि जिन 20 स्थानों को लेकर अलर्ट जारी हुआ है, उनमें से कुछ जगहों पर पहले भी घुसपैठ की घटना हो चुकी है। हालांकि, सर्दियों में यह न के बराबर होता है। हालांकि, बर्फ पिघलने के बाद एक बार फिर चीनी सेना की ऐसी कोशिशों का अलर्ट चौंकाने वाला है। सेना अपनी स्थिति मजबूत करने के लिए कूटनीतिक तौर पर तैयारी कर रही है।


Share