राजस्थान में बच्चों को करना होगा ब्रिज कोर्स- 1 से 8वीं क्लास के स्टूडेंट्स के लिए बनाई गई वर्कबुक

21 से खुलेंगे 9वीं से 12वीं तक के स्कूल
Share

बीकानेर (कार्यालय संवाददाता)। कोरोना के कारण पिछले 2 साल में बच्चों की पढ़ाई का काफी नुकसान हुआ है। पढ़ाई के इस गैप को कवर करने के लिए राजस्थान शिक्षा विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है। अगली क्लास में प्रमोट हुए छात्रों की पढ़ाई का नुकसान कम करने का प्रयास है। प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पहली बार ब्रिज कोर्स शुरू किया जाएगा। इसमें पिछली क्लास की पढ़ाई कराई जाएगी। ब्रिज कोर्स में वो टॉपिक कवर किए जाएंगे, जो बच्चों को पढऩा जरूरी है। शिक्षा विभाग ने तीन महीने का वर्क प्लान भी तैयार कर लिया है। ब्रिज कोर्स के लिए वर्क बुक प्रकाशित की जाएगी। वर्क बुक सभी सरकारी स्कूलों को उपलब्ध कराई जा रही है।

छात्रों को ब्रिज कोर्स करना जरूरी

पहली से आठवीं तक के छात्रों को ब्रिज कोर्स करना अनिवार्य होगा। इसके लिए क्लास 3 से 8 तक के लिए अंग्रेजी, हिन्दी और गणित की वर्क बुक तैयार की गई है। क्लास एक और दो के लिए ए ग्रेड वर्क बुक तैयार की गई है। वर्क बुक में पिछली क्लास की पढ़ाई से जुड़ी सामग्री है। वर्तमान क्लास के साथ ही पिछली 2 क्लास की पढ़ाई के लिए वर्क बुक उपयोग में ली जाएगी। हर सप्ताह रेगुलर क्लास की बुक्स के साथ वर्क बुक की पढ़ाई के लिए भी क्लासेस तय कर दी गई है।

ज्यादा से ज्यादा छात्र स्कूल आएं

माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने स्पष्ट कर दिया है कि कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए ज्यादा से ज्यादा छात्रों को स्कूल में बुलाया जाए। 1 अक्टूबर तक क्लास 9 से 12 के स्टूडेंट्स को 22 दिन पढ़ाया जाएगा। क्लास 6 से 8 तक के छात्रों  को 5 अक्टूबर तक 13 दिन पढ़ाना होगा। इसके अलावा क्लास एक से पांच तक के स्टूडेंट्स को भी 10 अक्टूबर तक 11 दिन की पढ़ाई करवानी होगी।


Share