15-18 साल के बच्चों को दी जाएगी केवल कोवैक्सीन की खुराक

Children of 15-18 years will be given only dose of Covaccine
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण कार्यक्रम का विस्तार हो रहा है और अब 15 से 18 साल के बच्चों को भी कोरोना वैक्सीन दी जाएगी। इसको लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने सोमवार को पंजीकरण और टीकाकरण अभियान पर दिशानिर्देशों जारी किए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से सोमवार को जारी नई गाइडलाइंस के मुताबिक, 3 जनवरी से शुरू होने वाले 15-18 साल के किशोरों को टीकाकरण के लिए 2007 या उससे पहले का जन्म लिया होना अनिवार्य है। नए दिशानिर्देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्र के नाम एक टेलीविजन संबोधन में, टीकाकरण अभियान के विस्तार के लिए सरकार के कदम की घोषणा के दो दिन बाद आए हैं। कई राज्यों में कोविड-19 मामले बढ़ रहे हैं, इसके अलावा वायरस के अत्यधिक संक्रामक ओमिक्रॉन वैरिएंट का तेजी से प्रसार हुआ है। वैक्सीन लेने के लिए पात्र 15 से 18 वर्ष के बच्चों के लिए, वैक्सीन का विकल्प ‘केवल कोवैक्सीन’ होगा क्योंकि यह भारत में स्वीकृत एकमात्र वैक्सीन है जिसकी 15-18 वर्ष आयु वर्ग के लिए डब्लूएचओ की आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी है। जायकोव-डी नाम से एक दूसरा टीका भी राष्ट्रीय दवा नियामक द्वारा 12 वर्ष और उससे अधिक उम्र के बच्चों के लिए अप्रूव है। इसे गुजरात स्थित जायडस हेल्थकेयर द्वारा बनाया गया है। जायकोव-डी को अभी तक टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल नहीं किया गया है।

ये हैं नई गाइडलाइंस

  • 15-18 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों का टीकाकरण 3 जनवरी, 2022 से शुरू होगा। ऐसे लाभार्थियों के लिए, टीकाकरण का विकल्प केवल ‘कोवैक्सिन’ होगा।
  • उन स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए, जिन्हें दो खुराकें मिल चुकी हैं, तीसरी खुराक 10 जनवरी, 2022 से उपलब्ध होगी।
  • 60 साल या इससे ऊपर के गंभीर बीमारियों से पीडि़त बुजुर्गों को डॉक्टरों की सलाह के आधार पर दूसरे डोज के 9 महीने या 39 हफ्ते बाद ही तीसरा डोज या बूस्टर डोज लगेगा। 9 महीना या 39 हफ्ते टीके के दूसरी डोज लगने वाली तारीख से माना जाएगा।

Share