1034 करोड़ का चॉल घोटाला, ईडी ने समन भेज आज पूछताछ के लिए बुलाया, संजय राउत पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार

Raut's bail plea will be heard from September 27
Share

मुंबई (कार्यालय संवाददाता)।  प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के खास सिपहसालार सांसद संजय राउत को समन भेजा है। ईडी ने पात्रा चॉल भूमि घोटाला मामले  में संजय राउत को 28 जून, मंगलवार को पूछताछ के लिए तलब किया है। ईडी की इस कार्रवाई पर शिवसेना सांसद संजय राउत ने समन को ‘साजिश’ करार देते हुए कहा कि भले उनकी हत्या कर दी जाए, लेकिन वह महाराष्ट्र के बागी विधायकों की तरह गुवाहाटी का रास्ता नहीं अपनाएंगे।

ईडी ने इससे पहले अप्रैल में शिवसेना नेता संजय राउत की संपत्ति अटैच की थी। दरअसल यह पूरा मामला 10&4 करोड़ के पात्र चॉल जमीन घोटाले से जुड़ा हुआ है। इस मामले में ईडी पहले प्रवीण राउत नाम के कारोबारी को गिरफ्तार कर चुकी है। इसके बाद से ही माना जा रहा था कि ईडी जल्द ही संजय राउत पर शिकंजा कस सकती है। ईडी ने अप्रैल में कार्रवाई के तहत संजय राउत का अलीबॉग प्लॉट और दादर में स्थित एक फ्लैट को अटैच किया था।

3000 फ्लैट को डेवलप करने का मिला था काम

प्रवीन राउत पर आरोप है कि उन्होंने पात्रा चॉल में रह रहे लोगों से फ्रॉड किया। गुरू आशीष कंस्ट्रक्शन को पात्रा चॉल के 3000 फ्लैट को डेवलप करने का काम मिला था। इनमें से 672 फ्लैट यहां रहने वालों को देना था। बाकी फ्लैट्स म्हाडा और डेवलपर के बीच में बांटे जाने थे। 2010 में राउत के सहयोगी प्रवीन राउत ने गुरू आशीष कंस्ट्रक्शन कंपनी के 25 प्रतिशत शेयर एचडीआईएल को बेच दिए थे। इसके बाद 2011, 2012 और 201& में प्लॉट के कई हिस्सों को दूसरे निजी बिल्डर्स को बेच दिया गया।

संजय राउत पर क्या है आरोप?

2020 में पीएमसी बैंक घोटाले की जांच चल रही थी। इसी दौरान गुरू आशीष कंपनी का नाम सामने आया था। प्रवीन राउत की पत्नी माधुरी राउत के अकाउंट से 2010 में संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत को 55 लाख रूपये का कर्ज दिया गया था। संजय राउत पर आरोप है कि इन्हीं पैसों से उन्होंने मुंबई के दादर इलाके में फ्लैट खरीदा था। ईडी ने मेसर्स गुरू आशीष कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के पूर्व निदेशक प्रवीण राउत और अन्य के खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल की है।

मैं गुवाहाटी का रास्ता नहीं अपनाऊंगा : राउत

शिवसेना सांसद संजय राउत ने ईडी के समन को ‘साजिश’ करार देते हुए कहा कि भले उनकी हत्या कर दी जाए, लेकिन वह महाराष्ट्र के बागी विधायकों की तरह गुवाहाटी का रास्ता नहीं अपनाएंगे।

दरअसल यह समन ऐसे समय में जारी किया गया है, जब शिवसेना अपने ही विधायकों के एक धड़े की बगावत से जूझ रही है। ये विधायक गुवाहाटी में डेरा डाले हुए हैं। उनकी बगावत से महाराष्ट्र की महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार का भविष्य सवालों के घेरे में आ गया है।

पात्रा चॉल जमीन घोटाला है क्या?

संजय राउत पर पात्रा चॉल लैंड स्कैम में करीब 1034 करोड़ के घोटाले का आरोप है। इस मामले में संजय राउत के सहयोगी प्रवीन राउत की 9 करोड़ रूपये और संजय राउत की पत्नी वर्षा की 2 करोड़ रूपये की संपत्ति जब्त हो चुकी है। ईडी प्रवीन राउत को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। मुंबई के गोरेगांव इलाके में पात्रा चाल है। यह महाराष्ट्र हाउसिंग एंड एरिया डेवेलपमेंट अथॉरिटी का प्लॉट है।


Share