छात्रों के बारे में सोचे सीबीएसई: सुप्रीम कोर्ट

छात्रों के बारे में सोचे सीबीएसई: सुप्रीम कोर्ट
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। सुप्रीम कोर्ट ने यूजीसी और सीबीएसई से कहा है कि वह आपस में कोऑर्डिनेशन बनाएं और कंपार्टमेंट एग्जाम के रिजल्ट और नए एकेडमिक सेशन पर फैसला लें। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई को सुझाव दिया है कि वह जल्दी से जल्दी कंपार्टमेंट एग्जाम का रिजल्ट घोषित करें और यूजीसी से कहा हैकि वह इस बात को सुनिश्चित करें कि इस विशेष परिस्थितियों में स्टूडेंट को दाखिला मिल सके। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एएम खानविलकर की अगुवाई वाली बेंच ने यूजीसी से कहा है कि वह दो लाख स्टूडेंट के भविष्य के बारे में सोचें जो कंपार्टमेंट एग्जाम में शामिल हो रहे हैं। अदालत ने कहा कि दो लाख स्टूडेंट की संख्या कम नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर सीबीएसई अक्टूबर में परीक्षा परिणाम घोषित कर देती है तो यूजीसी नवंबर की शुरूआत में दाखिला प्रक्रिया पूरी कर सकती है।

मामले की सुनवाई के दौरान सीबीएसई की कहना था कि 16 केंद्रों पर आंशरशिट की जांच चल रही है और रिजल्ट में चार हफ्ते लगेगे। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि दो लाख स्टूडेंट के भविष्य का सवाल है। अदालत ने सीबीएसई से कहा है कि वह बताए कि कब तक रिजल्ट घोषित हो सकता है रिजल्ट जल्दी से जल्दी घोषित करने को कहा गया है। सुप्रीम कोर्ट ने यूजीसी से कहा है कि वह 24 सितंबर तक अपने एजुकेशनल कैलेंडर जारी न करें।

कंपार्टमेंट एग्जाम इसी महीने की 29 तारीख को खत्म होगी

मामले में सुनवाई के दौरान स्टूडेंट की ओर से सीनियर वकील विवेक तन्खा पेश हुए और कहा कि कंपार्टमेंट एग्जाम इसी महीने की 29 तारीख को खत्म होगी और ऐसे में अगर दाखिला प्रक्रिया खत्म हो गई तो स्डूडेंट का मौजूदा अकेडमिक सेशन में दाखिला नहीं हो पाएगा और उनका भविष्य प्रभावित होगा।


Share