नस्लवाद की चपेट में आया एजबेस्टन टेस्ट, ईसीबी ने दिए जांच के आदेश

British spectators, drunk with the performance of their players, forgot their limits
Share

एजबेस्टन (एजेंसी)। इंग्लैंड और भारत के बीच खेला जा रहा पांचवां टेस्ट नस्लवाद की चपेट में आ गया है। एजबेस्टन में चल रहे टेस्ट मैच के चौथे दिन के अंत में भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों के एक वर्ग के साथ नस्लीय दुव्र्यवहार किया गया। सोमवार शाम को खेल खत्म होने के बाद सोशल मीडिया पर इसे लेकर आरोप लगाए गए। मामले की जांच चल रही है। भारत का आधिकारिक स्पोर्टर ग्रुप भारत आर्मी ने बाद में बताया कि स्टेडियम में मौजूद इसके कई सदस्यों को निशाना बनाया गया।

यॉर्कशायर के क्रिकेटर अजीम रफीक ने मामले को उठाया। उन्होंने कहा कि यह  ‘पढऩा निराशाजनक थाÓ और अपने ट्विटर अकाउंट से इसे लेकर कई ट्वीट रीट्वीट किए। पिछले साल एक संसदीय चयन समिति के सामने उनकी गवाही के बाद यॉर्कशायर में संस्थागत नस्लवाद के दावों की जांच हुई। इसके परिणामस्वरूप ईसीबी में बड़े सुधार करने की बात कही गई।

एजबेस्टन और ईसीबी ने मांगी माफी दिए जाचं के आदेश

वहीं एजबेस्टन के अधिकारियों इसके लिए माफी मांगी है। सोशल मीडिया पर पोस्ट पर कहा गया है, हमें यह पढ़कर बहुत खेद है और हम इस तरह के व्यवहार की कड़ी निंदा करते हैं। वहीं ईसीबी ने अपने पोस्ट में कहा, हम आज के मुकाबले में नस्लवादी दुव्र्यवहार की रिपोर्ट सुनकर चिंतित हैं। हम एजबेस्टन के अधिकारियों के संपर्क में हैं, जो इस मामले की जांच करेंगे। क्रिकेट में नस्लवाद के लिए कोई जगह नहीं है।


Share