40 साल से अधिक आयु के लोगों को लगे बूस्टर डोज, टॉप वैज्ञानिकों ने की सिफारिश

Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ऑमिक्रोन के खतरे के बीच भारत के टॉप वैज्ञानिकों ने सिफारिश की है कि देश में 40 साल से अधिक उम्र के लोगों को बूस्टर डोज दी जानी चाहिए। टॉप भारतीय जीनोम वैज्ञानिकों ने 40 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए प्राथमिकता के साथ कोरोना वैक्सीन की बूस्टर खुराक की सिफारिश की है। भारतीय सार्स-कोव-2 जीनोमिक्स सीक्वेंसिंग कंसोर्टियम (आईएनएसएसीओजी) के साप्ताहिक बुलेटिन में यह सिफारिश की गई है। दरअसल, आईएनएसएसीओजी कोरोना के जीनोम वेरिएशंस की निगरानी के लिए सरकार द्वारा स्थापित राष्ट्रीय परीक्षण प्रयोगशालाओं का एक नेटवर्क है।

टॉप वैज्ञानिकों वाली संस्था आईएनएसएसीओजी की बुलेटिन में कहा गया है कि जिन लोगों को वैक्सीन नहीं लगी है, उनको खतरा ज्यादा है और पहले उनका टीकाकरण किया जाए और 40 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए बूस्टर खुराक देने पर विचार किया जाए। इनमें हाई रिस्क और ज्यादा खतरे में रह रहे लोगों को प्राथमिकता दी जा सकती है। बता दें कि देश में महामारी की स्थिति पर लोकसभा में चर्चा के दौरान सांसदों द्वारा कोविड टीकों की बूस्टर खुराक की मांग के बीच यह सिफारिश आई है। आईएनएसएसीओजी ने कहा कि आवश्यक सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों को सक्षम करने के लिए इस प्रकार की उपस्थिति का शीघ्र पता लगाने के लिए जीनोमिक निगरानी महत्वपूर्ण होगी। वैज्ञानिकों की इस संस्था ने यात्राओं पर निगरानी की सलाह देते हुए कहा है कि ओमिक्रॉन से प्रभावित इलाकों (अफ्रीकी देशों) पर नजर रखी जानी चाहिए और कोरोना वायरस के मामलों की कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग भी होनी चाहिए ताकि प्रभावित इलाकों में इसके संक्रमण का पता लगाया जा सके और टेस्टिंग की संख्या बढ़ाकर बचाव के उपायों को लागू किया जा सके।


Share