कुंभलगढ़ में भाजपा का दो दिवसीय चिंतन शिविर शुरू – प्रताप की भूमि त्याग-तपस्या की भूमि : संतोष

कुंभलगढ़ में भाजपा का दो दिवसीय चिंतन शिविर शुरू - प्रताप की भूमि त्याग-तपस्या की भूमि : संतोष
Share

राजसमन्द (प्रात:काल संवाददाता)।  भारतीय जनता पार्टी की दो दिवसीय चिंतन बैठक का राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बी एल संतोष, प्रदेश प्रभारी  अरूण सिंह, प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया ने भारत माँ, डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी व पंडित दीन दयाल उपाध्याय के चित्रों पर दीप प्रज्वलित एवं पुष्प अर्पित कर शुभारंभ किया।  शिविर के प्रारम्भ में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बी. एल. संतोष ने वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप का जिक्र करते हुए कहा कि राजस्थान की भूमि त्याग और तपस्या की भूमि है, इस भूमि का कण-कण वीरता व शौर्य की गाथा गाता है।

चिंतन शिविर आरंभ होने से पूर्व  शौर्य के प्रतीक कुंभलगढ़ में महाराणा प्रताप की जन्मस्थली के दर्शन किये व कार्यक्रम स्थल पर संतोष, प्रदेश प्रभारी  अरूण सिंह एवं प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया इत्यादि वरिष्ठ पदाधिकारियों ने कन्याओं का पूजन कर सम्मान किया। इस दौरान प्रदेश संगठन महामंत्री  चंद्रशेखर, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, उप नेता प्रतिपक्ष  राजेंद्र राठौड़, राष्ट्रीय मंत्री अलका गुर्जर इत्यादि मौजूद सभी पदाधिकारी भी वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप को नमन कर प्रदेश भाजपा की चिंतन बैठक में पहुंचे। संतोष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी विश्व की नंबर वन राजनीतिक पार्टी बन गई है, पार्टी को स्थाई व मजबूत बनाने के लिए हम सबको जन भावनाओं के अनुसार कार्यक्रम भी बनाने पड़ेंगे और काम भी करना पड़ेगा और उसी दिशा में हम काम कर रहे हैं।

पार्टी के प्रदेश प्रभारी व राष्ट्रीय महामंत्री अरूण सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी संपूर्ण देश में आंतरिक गुटबाजी से जंूझ रही है और उनकी प्राथमिकता जनता की समस्या के समाधान की नहीं है, उनकी प्राथमिकता अपनी व अपनी पार्टी की समस्या का समाधान करना है। आज प्रदेश महिला उत्पीडऩ मे नंबर 1 बन चुका है। अनुसूचित जाति के व्यक्तियों की सरेआम हत्या हो रही है, जहां घटना अलवर की हो या कोटा की कानून का शासन नहीं, जंगलराज प्रदेश में बन चुका है।

प्रदेश अध्यक्ष डॉ. पूनिया ने कहा कि प्रदेश में कोई भी सुरक्षित नहीं है, किसान परेशान है, युवा दुखी हैं, महिलाओं, दलितों और आदिवासियों पर अत्याचार हो रहे हैं, भर्तियों में भ्रष्टाचार हो रहा है।  झालावाड़ अलवर सहित कई जिलों के मॉब लिंचिंग के मामलों से प्रदेश शर्मसार हुआ है, संपूर्ण प्रदेश में त्राहिमाम त्राहिमाम हो रहा है।  उन्होंने कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं से किसान, युवा और महिलाएं इत्यादि सभी वर्ग आर्थिक उन्नति के साथ आत्मनिर्भर बन रहे हैं, वहीं प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार किसानों और युवाओं से वादाखिलाफी कर रही है, ढाई साल में ना किसानों का कर्जा माफ हुआ है, ना भर्तियां पूरी की गई हैं।

केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि राजस्थान सरकार कोई जन कल्याण के काम नहीं कर रही है।


Share