सोनिया के ‘नफरत का वायरस’ वाले बयान पर भाजपा का पलटवार, कांग्रेस दशकों से घृणा फैला रही है

BJP retaliates on Sonia's 'virus of hate' statement, Congress has been spreading hatred for decades
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव तरूण चुग ने शनिवार को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी की ‘नफरत का वायरस’ वाली टिप्पणी पर निशाना साधा और कहा कि देश की सबसे पुरानी पार्टी दशकों से वोट बैंक की राजनीति के लिए ‘घृणा फैला रही है।‘ चुग ने एएनआई को बताया, जो कांग्रेस आज हमें सलाह दे रही है, उसने ही नफरत के वायरस को दशकों तक अपने पास रखकर उसे बढ़ावा दिया और देश की संस्कृति को वोट बैंक की राजनीति के लिए बर्बाद कर दिया।

कांग्रेस पर हमला करते हुए चुग ने कहा कि जिस पार्टी के शासन में हर साल चार दंगे होते थे और कुख्यात शाह बानो फैसला सुनाया गया था, वह आज सांप्रदायिकता की बात कर रही है। उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार की एक स्पष्ट नीति है जो ‘सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास’ पर चलती है। उन्होंने आगे कहा, मैं सोनिया गांधी जी से एक अनुरोध करूंगा कि जितना हो सके समझदारी से अपने शब्दों का चयन करें। अगर आप कांग्रेस के दिल में झांकते हैं, अगर कोई संगठन सबसे ज्यादा सांप्रदायिकता फैलाता है, तो वह कांग्रेस है।

‘सभी बड़े दंगे कांग्रेस पार्टी के शासन के दौरान हुए’

उन्होंने कहा, संक्रमण फैलाने का काम कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व द्वारा किया जाता है। राहुल गांधी ने कहा कि हिंदुत्व आईएसआईएस और बोको हराम की तरह है, नफरत का वायरस है। देश में दस बड़े दंगे जिनमें हजारों लोग मारे गए, ये सभी दंगे कांग्रेस पार्टी के शासन के दौरान हुआ, वो चाहे अहमदाबाद में हुआ हो या फिर मुंबई, भागलपुर या किसी और जगह। करौली हिंसा को लेकर कांग्रेस पर तंज कसते हुए भाजपा नेता ने कहा, कांग्रेस के शहजाद पूनावाला ने कहा था कि नफरत का वायरस हमारे बीच बिल्कुल मौजूद है। इसका सबसे दुर्जेय चेहरा राजस्थान के करौली में देखा गया, जब हिंदू विरोधी हिंसा हुई थी और वहां पुलिस राजस्थान प्रशासन की मूकदर्शक बनी रही और आज भी मुख्य आरोपी फरार है।। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शनिवार को केंद्र और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि आज देश में नफरत, कट्टरता, असहिष्णुता और झूठ का वायरस फैल रहा है। एक अखबार के संपादकीय में, कांग्रेस प्रमुख ने देश में बढ़ती सांप्रदायिक हिंसा के लिए सत्तारूढ़ भाजपा और आरएसएस को जिम्मेदार ठहराया।


Share