‘राजस्थान में भाजपा नेताओं को माहौल खराब करने का दिया गया है टास्क’ – हिंसा से कोई समझौता नहीं

सीएम गहलोत के नाम पर ठगी का प्रयास, आंध्र के मंत्रियों से करोड़ों ठगे, प्रेमिका को दिलाया लाखों का फ्लैट
Share

उदयपुर. नगर संवाददाता & मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भारतीय जनता पार्टी पर राज्य में माहौल खराब करने की कोशिश करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि भाजपा का पूरे मुल्क में टारगेट कोई है, वह राजस्थान है और इसलिए दंगे भड़क रहे हैं।

कांग्रेस ङ्क्षचतन शिविर की तैयारियों का जायजा लेने बुधवार को यहां पहुंचे गहलोत ने हवाई अड्डे पर मीडिया से यह बात कही। उन्होंने कहा कि ङ्क्षहसा से  किसी भी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा, दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा घबराई हुई हैं और राज्य में इसके नेताओं को ऊपर से इनके हाईकमान से निर्देश मिले हुए हैं कि राजस्थान सरकार को जितना बदनाम कर सको करो तथा जितनी अस्थिरता कर सको करो। उन्होंने कहा कि राज्य में भाजपा के मुख्यमंत्री के उम्मीदवार बन गये, उनमें प्रतिस्पर्धा है और उन्हें होमवर्क दे दिया गया हैं। इसलिए ये लोग लंबा खींच रहे हैं जबकि करोली में शीघ्र ही शांति हो गई थी लेकिन चला रहे है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राजगढ़ की घटना भाजपा की खुद की हुई हैं और जोधपुर की घटना में केन्द्रीय मंत्री और पूर्व मंत्री सब उतर गये। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि इनको मैसेज आते हैं किस प्रकार खिलाफ में प्रचार चलाना है। गहलोत ने कहा कि मैंने पहले ही था कि इनके जे पी नड्डा आग लगाने आये हैं, नड्डा आये और आग लग गई करौली के अंदर, राजगढ़ नगरपालिका में भाजपा का बोर्ड है और 35 में से 34 पार्षद भाजपा के हैं और सड़क चौड़ी करने का प्रस्ताव पास किया गया और बदनाम कांग्रेस को कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मंगलवार को जोधपुर में जो कुछ हुआ कोई ऐसा मुद्दा नहीं था कि जहां दंगा भड़कने की स्थिति आए, ये तो हम लोगों ने दंगा कहीं होने नहीं दिया, न करौली में, न राजगढ़ में, न जोधपुर में, इसीलिए कोई कैजुअलिटी नहीं हुई, कोई बड़ी घटना नहीं हुई। वरना आप जानते हो कि जब ङ्क्षहदू-मुस्लिम के दंगे हुए हैं तो क्या स्थिति बनती है, देश के अंदर क्या-क्या हालात हुए हैं उत्तर प्रदेश के अंदर, बिहार के अंदर, जहां-जहां दंगे हुए हैं, गुजरात के अंदर, वो काले अक्षरों में लिखा गया है इतिहास में। हमने यहां पूरा चाक-चौबंद किया हुआ है पुलिस को, इसी का परिणाम है कि करौली की घटना जो हुई थी उसके बाद रामनवमी आई तो राजस्थान में सब जगह सब धर्मों ने रामनवमी के जुलूसों का स्वागत किया, फूल बरसाए और उसी दिन सात राज्यों में दंगे भड़के हैं, बुलडोजर चले गरीबों पर। क्या क्या नहीं हुआ हैं, यहां शांति रही और शांति इनको हजम नहीं हो रही है।

उन्होंने कहा कि वह तमाम पार्टी से अपील करते हैं जहां तनाव होता है वहां वे लोग आगे आओ शांति की अपील करो। यह जनप्रतिनिधि की ड्यूटी बनती है लेकिन भाजपा ऐसा नहीं कर रही है। उन्होंने कहा कि जिस तरह संविधान और लोकतंत्र की धज्जिया उड़ाई जा रही है, जनता इनकी असलियत को समझ रही है।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जोधपुर में अब शांति हैं और सद्भावना का प्रयास किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि ङ्क्षचतन शिविर की तैयारी शुरू हो गई और 13 से 15 मई को पूरे देशभर से हमारे वरिष्ठ नेता आयेंगे और इसे लेकर सब कार्यकर्ताओं में उत्साह भी है।


Share