भाजपा ने कांग्रेस के खिलाफ जारी किया ब्लैक पेपर, भाजपा कार्यसमिति बैठक में आपस में भिड़े भाजपा कार्यकर्ता और नेता

भाजपा ने कांग्रेस के खिलाफ जारी किया ब्लैक पेपर, भाजपा कार्यसमिति बैठक में आपस में भिड़े भाजपा कार्यकर्ता और नेता कोटा/जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। भाजपा की कार्यसमिति की बैठक में बुधवार को आयोजन स्थल के गेट पर जमकर हंगामा हुआ। यहां बड़ी संख्या में नेता और कार्यकर्ताओं ने अंदर घुसने का प्रयास किया। गेट पर एंट्री संबंधी व्यवस्थाओं के लिए तैनात संगठन के पदाधिकारियों ने कार्यकर्ताओं को रोक किया। पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष प्रहलाद पवार भी अंदर जाना चाह रहे थे। उन्हें गेट पर ही रोक लिया तो वे उखड़ गए। इसी बात को लेकर गेट पर मौजूद लोगों और उनके बीच धक्का-मुक्की व गाली गलौच हो गई। बीजेपी प्रदेश कार्यसमिति बैठक में दूसरे सत्र में राजनीतिक प्रस्ताव पर चर्चा हुई। गुलाबचंद कटारिया ने प्रस्ताव रखा। इस प्रस्ताव का राजेंद्र राठौड़, कैलाश चौधरी कनकमल कटारा ने अनुमोदन किया। मीडिया से बातचीत में राजेंद्र राठौड़ ने बताया कि चर्चा के अंदर 14 सदस्यों ने भाग लिया, 27 लिखित में सुझाव आए। इसके साथ ही बाद कांग्रेस सरकार के खिलाफ ब्लैक पेपर जारी किया है। ये प्रस्ताव जिला समितियों में जाएगा। फिर मंडल स्तर तक जाएगा। कार्यसमिति की बैठक में विधानसभा चुनाव 2023 की स्ट्रैटेजी नए सिरे से तय होगी। साथ ही राज्यसभा चुनाव समेत पिछले साढ़े 3 साल में हुए अन्य चुनावों के रिजल्ट का एनालिसिस भी किया जाएगा। हार के कारणों पर चर्चा कर जहां कमजोरी रही है, उसे दूर कर विधानसभा चुनाव में उतरने की तैयारी होगी। बूंदी रोड स्थित निजी रिसोर्ट में हो रही वर्किंग कमेटी की बैठक में प्रदेश और केन्द्रीय संगठन के कई पदाधिकारी शामिल हैं। शाम 5 बजे तक अलग-अलग सेशन में बैठकें भी रखी गई हैं। कार्यसमिति की बैठक के बाद राजनीतिक प्रस्ताव पास होगा और संगठन के आगामी प्रोग्राम-अभियान भी तय होंगे। केन्द्र की मोदी सरकार की योजनाओं और उपलब्धियों को राजस्थान की जनता को बताकर पार्टी चुनाव में उतरेगी। 52 हजार बूथों पर एक साथ होंगे सम्मेलन कांग्रेस और प्रदेश की गहलोत सरकार से निपटने के लिए बीजेपी ने यह भी फैसला लिया है कि प्रदेश में पार्टी के सभी 52 हजार बूथों पर एक साथ बूथ सम्मेलन किए जाएंगे। प्रदेश कार्यसमिति की तर्ज पर बूथों की कार्यसमिति की बैठकें होंगी। 'बूथ जीता तो चुनाव जीता’ थीम पर पार्टी आगे बढ़ेगी। सांसदों-विधायकों और सीनियर नेताओं को बूथ लेवल पर दौरे करवाए जाएंगे। सीनियर नेताओं के चुनावी साल में ज्यादा से ज्यादा प्रवास कार्यक्रम तय होंगे। जून से लेकर 31 जुलाई तक लगातार बूथ मैनेजमेंट प्रोग्राम होंगे। हाड़ौती से होगा विधानसभा चुनाव-2023 का आगाज प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने स्पष्ट कर दिया है कि हाड़ौती संभाग में भाजपा कार्यसमिति की बैठक के जरिए साल 2023 के विधानसभा चुनाव का आगाज कर रही है। चुनावी तैयारियों को लेकर पार्टी के आगामी प्रोग्राम और अभियान इसी कार्यसमिति में तय होंगे। उन्होंने कहा, कोटा संभाग से भाजपा को जनसंघ के वक्त से जनाधार मिलता आया है। इसलिए पार्टी वैचारिक जमीन से ही चुनाव की शुरुआत करने का मन बना चुकी है। बैठक में बीजेपी प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह, सह प्रभारी भारती बेन सियाल, संगठन महामंत्री चंद्रशेखर, प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, पूर्व सीएम वसुंधरा राजे, उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, केन्द्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुनराम मेघवाल, कैलाश चौधरी, सांसद ओम प्रकाश माथुर समेत तमाम कार्यसमिति सदस्य आमंत्रित हैं।
Share

कोटा/जयपुर (कार्यालय संवाददाता)।  भाजपा की कार्यसमिति की बैठक में बुधवार को आयोजन स्थल के गेट पर जमकर हंगामा हुआ। यहां बड़ी संख्या में नेता और कार्यकर्ताओं ने अंदर घुसने का प्रयास किया। गेट पर एंट्री संबंधी व्यवस्थाओं के लिए तैनात संगठन के पदाधिकारियों ने कार्यकर्ताओं को रोक किया। पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष प्रहलाद पवार भी अंदर जाना चाह रहे थे। उन्हें गेट पर ही रोक लिया तो वे उखड़ गए। इसी बात को लेकर गेट पर मौजूद लोगों और उनके बीच धक्का-मुक्की व गाली गलौच हो गई।

बीजेपी प्रदेश कार्यसमिति बैठक में दूसरे सत्र में राजनीतिक प्रस्ताव पर चर्चा हुई। गुलाबचंद कटारिया ने प्रस्ताव रखा। इस प्रस्ताव का राजेंद्र राठौड़, कैलाश चौधरी कनकमल कटारा ने अनुमोदन किया। मीडिया से बातचीत में राजेंद्र राठौड़ ने बताया कि चर्चा के अंदर 14 सदस्यों ने भाग लिया, 27 लिखित में सुझाव आए। इसके साथ ही बाद कांग्रेस सरकार के खिलाफ ब्लैक पेपर जारी किया है। ये प्रस्ताव जिला समितियों में जाएगा। फिर मंडल स्तर तक जाएगा।

कार्यसमिति की बैठक में विधानसभा चुनाव 2023 की स्ट्रैटेजी नए सिरे से तय होगी। साथ ही राज्यसभा चुनाव समेत पिछले साढ़े 3 साल में हुए अन्य चुनावों के रिजल्ट का एनालिसिस भी किया जाएगा। हार के कारणों पर चर्चा कर जहां कमजोरी रही है, उसे दूर कर विधानसभा चुनाव में उतरने की तैयारी होगी। बूंदी रोड स्थित निजी रिसोर्ट में हो रही वर्किंग कमेटी की बैठक में प्रदेश और केन्द्रीय संगठन के कई पदाधिकारी शामिल हैं। शाम 5 बजे तक अलग-अलग सेशन में बैठकें भी रखी गई हैं।

कार्यसमिति की बैठक के बाद राजनीतिक प्रस्ताव पास होगा और संगठन के आगामी प्रोग्राम-अभियान भी तय होंगे। केन्द्र की मोदी सरकार की योजनाओं और उपलब्धियों को राजस्थान की जनता को बताकर पार्टी चुनाव में उतरेगी।

52 हजार बूथों पर एक साथ होंगे सम्मेलन

कांग्रेस और प्रदेश की गहलोत सरकार से निपटने के लिए बीजेपी ने यह भी फैसला लिया है कि प्रदेश में पार्टी के सभी 52 हजार बूथों पर एक साथ बूथ सम्मेलन किए जाएंगे। प्रदेश कार्यसमिति की तर्ज पर बूथों की कार्यसमिति की बैठकें होंगी। ‘बूथ जीता तो चुनाव जीता’ थीम पर पार्टी आगे बढ़ेगी। सांसदों-विधायकों और सीनियर नेताओं को बूथ लेवल पर दौरे करवाए जाएंगे। सीनियर नेताओं के चुनावी साल में ज्यादा से ज्यादा प्रवास कार्यक्रम तय होंगे। जून से लेकर 31 जुलाई तक लगातार बूथ मैनेजमेंट प्रोग्राम होंगे।

हाड़ौती से होगा विधानसभा चुनाव-2023 का आगाज प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने स्पष्ट कर दिया है कि हाड़ौती संभाग में भाजपा कार्यसमिति की बैठक के जरिए साल 2023 के विधानसभा चुनाव का आगाज कर रही है। चुनावी तैयारियों को लेकर पार्टी के आगामी प्रोग्राम और अभियान इसी कार्यसमिति में तय होंगे। उन्होंने कहा, कोटा संभाग से भाजपा को जनसंघ के वक्त से जनाधार मिलता आया है। इसलिए पार्टी वैचारिक जमीन से ही चुनाव की शुरुआत करने का मन बना चुकी है।

बैठक में बीजेपी प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह, सह प्रभारी भारती बेन सियाल, संगठन महामंत्री चंद्रशेखर, प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, पूर्व सीएम वसुंधरा राजे, उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, केन्द्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुनराम मेघवाल, कैलाश चौधरी, सांसद ओम प्रकाश माथुर समेत तमाम कार्यसमिति सदस्य आमंत्रित हैं।


Share