विधानसभा चुनाव से पहले एक्टिव मोड में भाजपा , सबसे बड़ा ट्रेनिंग कैंप 10 से माउंट आबू में

Azamgarh: Lead of one lakh turned into defeat in 3 months, Guddu Jamali of BSP is also a big reason for SP's defeat
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। राजस्थान भाजपा नेताओं का प्रदेश स्तर का सबसे बड़ा ट्रेनिंग कैंप सिरोही के माउंट आबू में 10 से 12 जुलाई तक लगेगा। इस कैंप में पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारी और नेता चुनावी जीत की स्ट्रेटेजी पर ट्रेनिंग देंगे। भाजपा राजस्थान में जल्द ही बड़े आंदोलन और अभियान भी चलाएगी। 2023 विधानसभा चुनाव से काफी पहले पार्टी एक्टिव मोड पर आ गई है। भाजपा की इस महातैयारी को इस रूप में देखा जा रहा है, कि अगला चुनावी चेहरा कौन होगा? माउंट आबू में जो महामंथन होगा, इसमें बूथ लेवल के माइक्रो मैनेजमेंट के साथ मोदी सरकार की स्कीम और उपलब्धियां जनता को बताने और लाभार्थियों तक पहुंच बनाने पर फोकस रखकर प्रोग्राम डिजाइन होंगे। जाहिर है राजस्थान में अगला विधानसभा चुनाव प्र.म. मोदी के चेहरे पर ही लडऩे की तैयारी चल रही है।

ट्रेनिंग कैंप में ये नेता रहेंगे

ट्रेनिंग कैंप में राष्ट्रीय संगठन महासचिव बीएल संतोष, ऑर्गेनाइजर वी.सतीश, प्रदेश प्रभारी और राष्ट्रीय महामंत्री अरूण सिंह, प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, पूर्व सीएम वसुंधरा राजे, उपनेता राजेन्द्र राठौड़, केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, कैलाश चौधरी, अर्जुन राम मेघवाल, राष्ट्रीय मंत्री अल्का गुर्जर, संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर समेत कई सीनियर नेता, प्रदेश पदाधिकारी, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य, मोर्चा और विभागों के प्रदेश संयोजक, सांसद-विधायक हिस्सा लेंगे। ट्रेनिंग लेने के बाद ये अपने-अपने जिलों और क्षेत्रों में बाकी कार्यकर्ताओं को ट्रेनिंग देंगे।

हर बूथ पर ‘वॉट्सएप ग्रुप और ‘हर घर तिरंगा अभियान : भाजपा राष्ट्रीय कार्यसमिति में दो टास्क दिए गए हैं, इसके तहत राजस्थान में 52 हजार बूथों पर भाजपा व्हाट्सएप ग्रुप बनाने में जुट गई है। हर बूथ पर 200 एक्टिव कार्यकर्ता बनाए जाएंगे। जिनकी प्रदेश स्तर पर मॉनिटरिंग होगी। आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर हर घर तिरंगा अभियान भी प्रदेश में चलाया जाएगा। अगस्त महीने में भाजपा नेता-कार्यकर्ता मंडल और बूथ स्तर पर यह अभियान चलाएंगे। बूथ मैनेजमेंट और मजबूती के लिए प्रदेशाध्यक्ष और संगठन मंत्री हर सप्ताह रिव्यू बैठक करेंगे। सांसद, विधायक, प्रदेश पदाधिकारियों के दौरे होंगे।

जल्द होंगे बड़े आंदोलन : भाजपा प्रदेश में जल्द ही बड़े आंदोलन करेगी। सूत्रों के मुताबिक-हिन्दुओं और हिन्दू यात्राओं पर हमले की घटनाओं, बिगड़ी कानून व्यवस्था, किसान कर्जमाफी, पेंडिंग भर्तियां, बेरोजगारी भत्ता, अलग-अलग सरकारी योजनाओं के नाम पर वादाखिलाफी जैसे मुद्दे शामिल होंगे।

भाजपा अभी से पकड़ मजबूत बना रही : भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह से लेकर प्रदेश के नेता अभी से अपनी पकड़ मजबूत कर रहे हैं। प्रदेश के हर छोटे से बड़े मुद्दे पर भाजपा स्ट्रेटजी से काम कर रही है। इसका उदाहरण है, बीते तीन महीनों से लगातार हो रहे राष्ट्रीय और प्रदेश स्तरीय नेताओं के दौरे।

केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह जनवरी 2020 को जोधपुर में ष्ट्र्र को लेकर रैली और जनसभा को संबोधित कर चुके हैं। 4-5 दिसम्बर 2021 को जैसलमेर में बीएसएफ स्थापना दिवस समारोह और जयपुर के सीतापुरा जेईसीसी में बड़ी सभा कर चुके। 9 जुलाई को शाह तीसरी बार जयपुर आ रहे हैं। राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी पिछले दिनों 3 बार राजस्थान दौरे कर चुके। नड्डा ने 20-21 मई 2022 को जयपुर में भाजपा राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक की। फिर 2 अप्रैल 2022 को सवाई माधोपुर में भाजपा एसटी मोर्चा सम्मेलन किया और भाजपा कोर टीम के साथ चुनावी तैयारियों पर बैठक भी की। इसके बाद 10 मई 2022 को गंगानगर और हनुमानगढ़ में दौरा कर सूरतगढ़ में बूथ अध्यक्ष सम्मेलन और कार्यकर्ता बैठक ली।

वसुंधरा-पूनिया भी एक्टिव : भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी प्रदेश में एक्टिव हैं। भाजपा के 44 संगठनात्मक जिलों में बैठक कर चुके हैं। सभी 7 संभाग, 33 जिलों के दौरे कर चुके हैं। उदयपुर में कन्हैयालाल के घर पहुंचकर मृतक के परिजनों को भी वसुंधरा राजे और सतीश पूनियां ने सांत्वना जताई। कई बड़े आंदोलन हुए जिनमें रीट पेपर लीक, करौली-जोधपुर की हिंसा और साम्प्रदायिक तनाव के मुद्दे, अलवर में मंदिर तोडऩे की घटना पर पूरी भाजपा एक साथ गहलोत सरकार पर हमलावर रहे हैं। लगातार एक्टिव होकर मुद्दों को उठा रहे हैं।

अलग-अलग संभाग-जिलों में प्रदेश स्तरीय बैठकों की स्ट्रेटेजी : भाजपा अलग-अलग सम्भाग और जिलों में प्रदेश स्तर की बैठक कर रही है। पिछले दो साल में प्रदेश कार्यसमिति और कोर कमेटी की करीब 15 बैठकें हो चुकी हैं। कोटा, सवाई माधोपुर, श्रीगंगानगर, जोधपुर, अजमेर, भरतपुर में बैठक हो चुकी हैं। जयपुर में प्रदेश स्तर की कई बैठकें हुई। इसी तरह प्रदेश कार्य समिति, जिला कार्यसमिति, मंडल और बूथ कार्यसमिति की बैठक की जा रही हैं।


Share