सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी- मारा गया हिजबुल का टॉप आतंकी

Big success for security forces - Hizbul's top terrorist killed
Share

पुलवामा (एजेंसी)। प्रतिबंधित आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन (एचएम) का ‘ए प्लस’ कैटिगरी का एक आतंकवादी बुधवार को दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया। वह 2018 में शोपियां के जैनपोरा में अल्पसंख्यक आवास शिविर की रखवाली करने वाले पुलिसकर्मियों पर हमले सहित कई आतंकी अपराधों में शामिल था, जिसमें 4 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। पुलिस ने कहा कि 14/15 दिसंबर की दरम्यानी रात के दौरान, पुलवामा के उजरामपथरी गांव में एक आतंकवादी की मौजूदगी के संबंध में एक विशेष इनपुट पर कार्रवाई करते हुए, जम्मू-कश्मीर पुलिस, सेना की 44 आरआर और सीआरपीएफ की 182 बटालियन द्वारा एक संयुक्त घेराबंदी और तलाशी अभियान शुरू किया गया था। पुलिस ने कहा, तलाशी अभियान के दौरान, जैसे ही आतंकवादी की उपस्थिति का पता चला, उसे आत्मसमर्पण करने के लिए बार-बार अवसर दिए गए। हालांकि, उसने संयुक्त तलाशी दल पर अंधाधुंध गोलियां चलाईं, जिसकी जवाबी कार्रवाई में मुठभेड़ शुरू हो गई। इस मुठभेड़ में, प्रतिबंधित आतंकी संगठन एचएम का एक आतंकवादी मारा गया और उसका शव मुठभेड़ स्थल से बरामद कर लिया गया है। उसकी पहचान फिरोज अहमद डार के रूप में हुई है।

कई अपराधों में शामिल था आतंकी

पुलिस ने कहा, पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार, मारा गया आतंकवादी ए प्लस कैटिगरी का था। वह सुरक्षाबलों और नागरिक अत्याचारों सहित कई आतंकवादी अपराधों में शामिल समूहों का हिस्सा था। मारा गया आतंकवादी 2017 से सक्रिय था और दिसंबर 2018 में जैनपोरा में माइनॉरिटी गार्ड पर हमले सहित कई आतंकी अपराध के मामलों में शामिल था, जिसके परिणामस्वरूप चार पुलिसकर्मियों की शहादत हुई थी और उनकी सर्विस राइफलें लूट ली गईं थी। पुलिस के अनुसार, वह फरवरी 2019 में डंगरपोरा पुलवामा निवासी मुनीर अहमद भट की बेटी इशरत मुनीर नाम की एक लड़की की हत्या में भी शामिल था।

फिरोज के पास से बरामद हुए गोला-बारूद : पुलिस ने बताया कि फिरोज एक गैर स्थानीय मजदूर चरनजीत, पुत्र हंस राज की हत्या में भी शामिल था, जो मूलरूप से पंजाब का निवासी था। अक्टूबर 2019 के घटनाक्रम में उसने अन्य लोगों को घायल भी कर दिया था, जब वे शोपियां के जैनपोरा इलाके में एक वाहन में सेब के बक्से लोड कर रहे थे। इसके अलावा, उसने भोले-भाले युवाओं को आतंकवादी रैंक में शामिल होने के लिए लुभाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उसके पास से आपत्तिजनक सामग्री, हथियार और गोला-बारूद, एक एके राइफल सहित तीन मैगजीन भी बरामद की गई हैं। पुलिस ने कहा कि बरामद सभी सामग्रियों को आगे की जांच के लिए केस रिकॉर्ड में ले लिया गया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच शुरू कर दी है।


Share