बॉम्बे हाईकोर्ट से मलिक को बड़ा झटका, ईडी की गिरफ्तारी को अवैध बताने वाली याचिका खारिज

Big blow to Malik from Bombay High Court, dismisses petition calling ED's arrest illegal
Share

मुंबई (कार्यालय संवाददाता)। अंडरवल्र्ड डॉन दाउद इब्राहिम के परिवार से जमीन खरीदने से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में ईडी की कस्टडी में चल रहे मंत्री नवाब मालिक को मंगलवार को बॉम्बे हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है। हाईकोर्ट ने उनकी गिरफ्तारी को सही बताते हुए उनकी उस याचिका को खारिज कर दिया है, जिसमें उन्होंने खुद को गिरफ्तार करने के तरीके पर सवालियां निशाना लगाते हुए गिरफ्तारी को अवैध बताया था।

हाईकोर्ट ने फैसले के दौरान कहा कि ईडी द्वारा पेश की गई दलील यह साबित करती है कि उनके पास मालिक को गिरफ्तार करने के पर्याप्त कारण थे। हालांकि, सबूतों के सत्यापन को लेकर अदालत में कोई बहस नहीं हुई है।

पीएमएलए कोर्ट से भी खारिज हुई है मालिक की जमानत

इससे पहले मुंबई की पीएमएलए कोर्ट भी नवाब मलिक की यह दलील ठुकरा चुकी है कि उनके खिलाफ राजनीतिक वजहों से कार्रवाई की जा रही है। अब यह माना जा रहा है कि नवाब मलिक सुप्रीम कोर्ट का रूख करेंगे।

आर्थर रोड जेल में बंद हैं नवाब मलिक

नवाब मलिक को ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग के केस में 23 फरवरी को गिरफ्तार किया था। एक सप्ताह तक ईडी की कस्टडी में रहने के बाद वे अब न्यायिक हिरासत में मुंबई की आर्थर रोड जेल में बंद हैं।

हाईकोर्ट के फैसले के बाद इस्तीफा लेना चाहिए : फडणवीस

विधानसभा में विपक्षी नेता देवेंद्र फडणवीस ने कोर्ट के इस फैसले के बाद विधानसभा के बाहर पत्रकारों से बात करते हए अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि कोर्ट ने ईडी की गिरफ्तारी को जायज ठहराया है। अब भी ठाकरे सरकार नवाब मलिक को अगर बर्खास्त नहीं करती या इस्तीफा नहीं लेती तो यह दुर्भाग्य की बात होगी। सीधा-सीधा डी कनेक्शन देख कर भी सरकार उनसे इस्तीफा नहीं ले रही, इससे साफ होता है कि सरकार दाउद इब्राहिम के इशारे पर चल रही है।


Share