पंजाब के सीएम का बड़ा ऐलान- चन्नी ने उड़ा दिया ‘आप’ के सबसे बड़े चुनावी वादे का ‘फ्यूज’

पंजाब के सीएम का बड़ा ऐलान- चन्नी ने उड़ा दिया 'आप' के सबसे बड़े चुनावी वादे का 'फ्यूज'
Share

चंडीगढ़ (एजेंसी)। पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने आम आदमी पार्टी (आप) को बड़ा झटका दिया है। दरअसल, आम आदमी पार्टी ने आम लोगों की दुखती रगों में से एक ‘बिजली बिल’ पर एक वादा किया था। अब बिजली बिलों पर ही चन्नी ने बड़ा ऐलान कर दिया है।

सीएम चन्नी ने ऐलान किया कि राज्य में 1200 करोड़ के बकाया बिजली बिल माफ किए जा रहे हैं। इस पैसे को पंजाब सरकार अपनी जेब से बिजली कंपनियों को देगी। सीएम चन्नी ने बताया कि सरकार के इस फैसले से पंजाब के 53 लाख परिवारों को फायदा होगा। बताया गया कि 2 किलोवॉट तक बिजली मीटर इस्तेमाल करने वालों के बकाया बिजली बिल माफ किए जा रहे हैं। इतना ही नहीं कटे हुए बिजली कनेक्शन दोबारा बहाल भी किए जाएंगे।

बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में सीएम चन्नी ने कहा, जिन लोगों के बिजली कनेक्शन बिल ना भरने की वजह से कटे हुए हैं और जो गरीब हैं, दो किलो वाट तक के उपभोक्ता हैं उनका पिछला जो बिल आया है वो सारा बकाया सरकार भरेगी। सीएम ने कहा कि जिनके कनेक्शन इसलिए काटे गए कि वो डिफॉल्टर हैं उनके बिल पंजाब सरकार भरेगी।

आप ने किया है 300 यूनिट फ्री बिजली का वादा

बता दें कि पंजाब समेत बाकी राज्यों में भी आम आदमी पार्टी ने फ्री बिजली देने का वादा किया था। दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने कई मौकों पर कहा कि दिल्ली की तरह इन राज्यों में भी सरकार बनने पर फ्री बिजली देंगे।पंजाब के लिए आप ने वादा किया था कि अगर सरकार बनी तो वह लोगों को 300 यूनिट तक बिजली फ्री देंगे। आप के इस वादे ने पंजाब में राजनीतिक बैचेनी बढ़ा दी थी।

इस्तीफे पर बोले सीएम चन्नी’- सिद्धू को कहा था पार्टी सुप्रीम है, बैठ कर बातचीत करिये’

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष पद से नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे के बाद अब मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। सीएम ने बताया है कि उन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू से बातचीत की थी और उनसे यह भी अपील की थी कि वो बैठकर बात करें और मुद्दों को सुलझाने की कोशिश करें।

नवजोत सिंह सिद्धू ने मंगलवार को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा, पार्टी का अध्यक्ष चाहे कोई भी हो, वो परिवार का मुखिया होता है। मैंने उन्हें (नवजोत सिंह सिद्धू) को फोन किया था और कहा था कि पार्टी सुप्रीम है। मैं उनसे फोन पर बातचीत की और कहा था कि बैठ कर बातचीत करते हैं और मुद्दों को सुलझाते हैं।

अपने इस्तीफे के बाद सिद्धू ने एक ट्वीटर पर अपनी बात रखी थी। जिसके बाद सीएम ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, मुझे किसी भी मुद्दे पर बातचीत करने में कोई इगो नहीं है..मैं नेताओं के साथ बैठ कर बातचीत करना चाहता हूं। इस्तीफे के बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने ट्वीट कर कहा कि हक़-सच की लड़ाई आखिरी दम तक लड़ता रहूंगा। उन्होंने कहा कि उनकी लड़ाई पंजाब के मुद्दों और राज्य के एजेंडा को लेकर है।


Share