बीएड डिग्रीधारी नहीं दे सकेंगे लेवल-1 का एग्जाम, 11 जनवरी से भरे जाएंगे आवेदन

बीएड डिग्रीधारी नहीं दे सकेंगे लेवल-1 का एग्जाम
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। रीट भर्ती परीक्षा मामले में राजस्थान सरकार ने बड़ा निर्णय किया हैं। इस परीक्षा के लेवल-1 में बीएड डिग्रीधारी बैठ नहीं सकेंगे। साथ ही सरकार ने 11 जनवरी से क्रश्वश्वञ्ज भर्ती के लिए आवेदन भरने का फैसला किया हैं, जिसको लेकर आज माध्यमिक शिक्षा बोर्ड आज विज्ञप्ति भी जारी कर सकता हैं। शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटसरा ने आज मीडिया से बात करते हुए कहा कि रीट लेवल-1 में केवल बीएसटीसी वाले ही एग्जाम दे सकेंगे। इसमें बीएड डिग्रीधारी एग्जाम नहीं दे सकेंगे।

सरकार के इस निर्णय से बीएसटीसी वालों को बड़ी राहत मिली हैं। पिछले कई दिनों से बीएसटीसी इसको लेकर आंदोलनरत भी थे, जिसका उन्हें फायदा मिला हैं। बता दें कि रीट एग्जाम करवाने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 25 अप्रैल की तिथि की घोषणा की हैं। इस एग्जाम के बाद राज्य सरकार प्रदेश में 31 हजार शिक्षकों की भर्ती के लिए आवेदन मांगेगी। इस भर्ती में रीट में पास होने वाले अभ्यर्थियों को ही नौकरी दी जाएगी।

11 जनवरी से 4 फरवरी तक भरे जाएंगे आवेदन

डोटसरा ने बताया कि रीट भर्ती के लिए 11 जनवरी से ऑनलाइन आवेदन भरे जाएंगे, जो 4 फरवरी तक भरे जाने का प्रस्ताव हैं। 8 फरवरी तक चालान जमा करवाने की प्रक्रिया होगी। हालांकि उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से ये प्रस्ताव माध्यमिक शिक्षा बोर्ड को भेजा जाएगा, बोर्ड अपनी सुविधा अनुसार इस कार्यक्रम में संशोधन भी कर सकती हैं।

अकेडमी नंबरों का वेटेज किया कम

इस बार रीट परीक्षा में राजस्थान के अभ्यर्थियों को लाभ देने के लिए राजस्थान से संबंधित सामान्य ज्ञान के प्रश्न ज्यादा आएंगे। इसके अलावा सरकार ने इस बार रीट के प्राप्तांक (स्कोर) को 90 प्रतिशत तक वेटेज देने का भी अहम निर्णय किया हैं। जबकि एकेडमिक एज्यूकेशन (बीए, बीकॉम, बीएससी या अन्य स्नातक डिग्री) में प्राप्त अंकों का वेटेज 10 प्रतिशत ही मिलेगा। अभी तक रीट परीक्षा के बाद थर्ड ग्रेट टीचर भर्ती में 70/30 का वेटेज दिया जाता हैं। इसके तहत रीट के प्राप्तांकों का 70 प्रतिशत वेटेज और एकेडमिक एज्यूकेशन में प्राप्त अंकों का 30 प्रतिशत वेटेज देते हुए मैरिट लिस्ट जारी की जाती हैं।


Share