प्रशासन शहरों के संग अभियान में लगे कर्मचारियों के तबादलों पर लगी रोक

आज भी इंग्लिश नहीं बोल पाता: गहलोत, सीएम ने कहा- नेता अंग्रेजी में बात करे तो टोकता हूं- क्या यहां से जाऊं मैं
Share

प्रशासनिक सुधार एवं समन्वय विभाग ने जारी किये आदेश , गहलोत सरकार का ‘प्रशासन शहरों के संग अभियान’ पर है विशेष फोकस

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)।  राजस्थान में चल रहे तबादलों के दौर में अशोक गहलोत सरकार ने ‘प्रशासन शहरों के संग अभियान’ में लगे कर्मचारियों और अधिकारियों के तबादलों पर तुंरत प्रभाव से रोक लगा दी है। प्रशासनिक सुधार विभाग ने इसको लेकर सोमवार को विशेष आदेश जारी किए हैं। शेष विभागों में कर्मचारियों और अधिकारियों के तबादले जारी रहेंगे। ‘प्रशासन शहरों के संग अभियान’ पर इन दिनों सरकार खासा ध्यान दे रही है। सरकार अब इस अभियान में किसी तरह की कोई रूकावट नहीं चाहती है। सरकार के इस इस अभियान को आगामी विधानसभा चुनावों से जोड़कर देखा जा रहा है। अभियान का उद्देश्य लोगों के  काम त्वरित गति से कराना है।

प्रशासनिक सुधार एवं समन्वय विभाग ने आदेश जारी कर ‘प्रशासन शहरों के संग अभियान’ में नियोजित नगरीय विकास विभाग और स्वायत्त शासन विभाग के अधिकारियों तथा कर्मचारियों के तबादलों पर रोक लगाई है। इनमें आयुक्त, अधिशाषी अधिकारी, राजस्व अधिकारी, राजस्व निरीक्षक, सभी वर्ग के इंजीनियर्स, अभियान के कार्यों से संबंधित लिपिक वर्ग और नगर नियोजन संवर्ग के कार्मिकों के तबादलों पर तुरंत प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया है।

यह है तबादलों पर रोक का कारण

दरअसल ‘प्रशासन शहरों के संग अभियान’ पर राज्य सरकार का विशेष फोकस है. ऐसे में अभियान के काम प्रभावित नहीं हो इसके लिए तबादलों पर रोक लगाई गई है। यह अभियान पहले भी कोरोना के कारण बाधित हो चुका है। कोरोना काल में इसे बीच-बीच में रोकना पड़ा था। इससे इस अभियान का काम काफी बाधित हुआ था। इसके साथ ही प्रशासनिक सुधार विभाग ने अपने आदेश में स्पष्ट किया है कि शेष विभागों के कर्मचारियों और अधिकारियों के तबादले जारी रहेंगे।

तबादलों का सिलसिला जोरों से चल रहा है

उल्लेखनीय है इन दिनों अधिकारियों और कर्मचारियों के तबादलों का काम जोरों पर चल रहा है। आये दिन किसी न किसी विभाग की तबादला सूची आती है। यही नहीं आईएएस और आईपीएस अधिकारियों के तबादले भी चल रहे हैं। भले ही इनकी सूचियां छोटी आ रही है लेकिन तबादलों का दौर बदस्तूर जारी है। ‘प्रशासन शहरों के संग अभियान’ में लगे अधिकारियों और कर्मचारियों के तबादलों पर रोक लग जाने से उनमे मायूसी छा गई है।


Share