आजाद ने की मोदी की तारीफ, कहा- ‘पीएम बनने के बावजूद नहीं भूलें अपनी जड़ें’

नेशनल यूथ पार्लियामेंट फेस्टिवल में प्र.म. मोदी बोले
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कांग्रेस पार्टी से नाराज बताए जा रहे ‘ग्रुप-23Ó के नेताओं में शामिल और हाल ही में राज्यसभा से रिटायर हुए गुलाम नबी आजाद ने प्र.म. नरेंद्र मोदी की तारीफ की है। उन्होंने मोदी को जमीन से जुड़ा हुआ नेता बताते हुए कहा है कि लोगों को उनसे सीखना चाहिए कि कामयाबी की बुलंदियों पर जाकर भी कैसे अपनी जड़ों को याद रखा जाता है। मोदी के बचपन में चाय बेचने की घटना का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने अपनी असलियत नहीं छिपाई। गुलाम नबी आजाद ने जम्मू-कश्मीर में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, बहुत से लीडरों की बहुत सी बातें अच्छी लगती हैं। मैं खुद गांव का हूं और बहुत फक्र होता है। हमारे मोदी भी कहते हैं गांव से हैं, कहते हैं कि बर्तन मांजता था, चाय बेचता था, निजी तौर पर हम उनके खिलाफ हैं, लेकिन जो अपनी असलियत नहीं छिपाते, यदि आपने अपनी असलियत छिपाई तो आप मशीनरी दुनिया में जी रहे होते हैं।

कपिल सिब्बल, गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा जैसे नेताओं के बाद अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राशिद अल्वी ने भी पार्टी को नसीहत देते हुए भाजपा से सीख लेने को कहा है। अल्वी ने रविवार को कहा कि भाजपा हर छोटे-बड़े चुनाव को जीतने के लिए दिन-रात मेहनत करती है। साथ ही यह भी कहा कि भगवा पार्टी से मुकाबले के लिए उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं को भी 24 घंटे काम करने की जरूरत है। अल्वी ने कहा, अमति शाह की अपनी रणनीति है और कांग्रेस पार्टी को चुनावों में जीत के लिए रणनीति बनाने की जरूरत है। सभी छोटे-बड़े चुनाव में पार्टी की जीत सुनिश्चित करने के लिए भाजपा के कार्यकर्ता दिन-रात मेहनत करते हैं। कांग्रेस नेता ने कहा कि भाजपा के कार्यकर्ता पार्टी की जीत सुनिश्चित करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ते हैं। अल्वी ने आगे कहा, वे सभी कोशिश करते हैं। नैतिक-अनैतिक कामों में भी शामिल हो जाते हैं। कांग्रेस कार्यकर्ताओं को कड़ी मेहनत करने की जरूरत है। 24&7 घंटे काम करना होगा और एक रणनीति बनानी होगी। केवल तभी हम उनसे मुकाबला कर सकते हैं। अल्वी का बयान ऐसे समय पर आया है जब आज ही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने जम्मू में एक सभा के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफ की है। कांग्रेस से नाराज बताए जा रहे 23 नेताओं में शामिल आजाद ने कहा कि पीएम बन जाने के बावजूद मोदी अपनी जड़ों को नहीं भूले और खुद को चायवाला कहते हैं। आजाद सहित कई नेता कांग्रेस पार्टी में संगठन चुनाव और नेतृत्व के मोर्चे पर पार्टी को इन दिनों नसीहत देने में जुटे हुए हैं।


Share