आजाद ने अब सोनिया पर बोला हमला, ‘सीडब्ल्यूसी बैठक की अध्यक्षता विदेश से हो रही’

Azad now attacked Sonia, 'CWC meeting is being chaired from abroad'
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)।  राहुल गांधी पर हमला बोल कर कांग्रेस छोडऩे वाले गुलाम नबी आजाद ने एक बार फिर से तेवर दिखाए हैं। यही नहीं इस बार उन्होंने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी पर ही हमला बोल दिया है। उन्होंने सोमवार को एएनआई से बातचीत में कहा कि अब तो कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक की अध्यक्षता ही विदेश से हो रही है। यदि ऐसा ही था तो फिर बैठक करके जा सकते थे। कांग्रेस कैसे खड़ी होगी, जब अध्यक्ष के पास ही टाइम नहीं है। जो मेरी टाइमिंग की बात करते हैं, उन लोगों के पास कांग्रेस के लिए टाइम ही कहां है। बता दें कि सोनिया गांधी इलाज के उद्देश्य से विदेश में हैं। उनके साथ ही राहुल गांधी और प्रियंका गांधी भी विदेश गए हैं।

कांग्रेस की हालत पर बोले- घर गिर रहा है

गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस को लेकर कहा कि घर गिर रहा है और अब खंभे भी गिर रहे हैं। उसमें दबकर मरने से अच्छा है कि बाहर निकल जाएं। जिन लोगों को सती होना है, वे वहां रहें। राज्यसभा सीटों को लेकर भी गुलाम नबी आजाद ने हमला बोला और कहा कि कुछ लोग अजेंडा सेट करने के लिए उच्च सदन गए हैं। गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैंने जब सोनिया गांधी को पार्टी में सुधार के लिए चिट्ठी लिखी थी तो मैं 6 दिनों तक सो नहीं पाया था। मैंने जिस पार्टी को खून देकर खड़ा किया था, उसके लिए ऐसा करना चिंता की बात थी। कांग्रेस के नए नेताओं को लेकर गुलाम नबी आजाद ने कहा कि आज जो हैं वो तो कहीं की ईंट और कहीं का रोड़ा हैं। वे आज लोग हम जैसे कांग्रेसियों को पर सवाल उठा रहे हैं। इन प्रवक्ताओं को हमारे बारे में भी कुछ मालूम नहीं है। गांधी और नेहरू के इतिहास के बारे में क्या जानेंगे।

प्र.म. मोदी की जमकर तारीफ, कहा- इंसानियत दिखाई है

इस मौके पर गुलाम नबी आजाद ने प्र.म. नरेंद्र मोदी की भी जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि मैं समझता था कि मोदी जी क्रूड आदमी हैं। उन्होंने शादी नहीं की और बच्चे नहीं हैं तो उन्हें किसी की परवाह नहीं होगी। लेकिन उन्होंने इंसानियत दिखाई है। जब गुजरातियों की एक बस पर कश्मीर में हमला हुआ था तो लोगों के चिथड़े उड़ गए थे। उस दौरान मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का फोन आया था और मैं चिल्ला रहा था। भावुक था और फूट-फूटकर रो रहा था।

इसी बात पर प्र.म. मोदी ने संसद में बात की थी। उनके कहने का यह मतलब नहीं था कि गुलाम नबी आजाद के जाने के बाद उनका खाना कैसे हजम होगा।

‘राहुल गांधी को सफल करने का प्रयास किया, पर वे ही नहीं चाहते’

इंदिरा गांधी और संजय गांधी के करीबी होने को लेकर गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैं 30 साल से सोनिया गांधी की जैसी इज्जत करता था, उतनी ही है। आजाद ने कहा कि हमने एक लंबे अरसे तक राहुल गांधी को सफल नेता बनाने का प्रयास किया, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। 137 सालों के इतिहास में पहली बार कांग्रेस वर्किंग कमेटी की अध्यक्षता विदेश से हो रही है। यदि ऐसा ही था तो फिर बैठक करके जा सकते थे। कांग्रेस कैसे खड़ी होगी, जब अध्यक्ष के पास ही टाइम नहीं है। जो मेरी टाइमिंग की बात करते हैं, उन लोगों के पास कांग्रेस के लिए टाइम ही कहां है।

‘चौकीदार चोर है’ नारे ने कांग्रेस में डाली दरार

आजाद ने कहा कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं और राहुल गांधी के बीच दरार तब साफ हुई, जब राहुल ने 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए ‘चौकीदार चोर है’ का नारा दिया। किसी वरिष्ठ नेता ने इस नारे का समर्थन नहीं किया। राहुल ने पार्टी मीटिंग में पूछा था कि जिन्हें नारा अच्छा लगा वे हाथ ऊपर उठाएं। तब कई बड़े नेताओं ने इस नारे को लेकर असहमति दर्ज कराई थी। उस बैठक में मनमोहन सिंह, एके एंटनी और पी चिदंबरम भी थे।

बड़े नेताओं पर पर्सनल अटैक कहां तक सही?

आजाद ने कहा, ‘हमने अपनी राजनीतिक पढ़ाई इंदिरा गांधी के नेतृत्व में की है। जब मैं जूनियर नेता था, तो वे एमएल फोतेदार और मुझे कहा करती थी कि हम अटल बिहारी वाजपेयी जी से मिलते रहें। हमें सिखाया गया था कि हमें अपने से बड़ों की इज्जत करनी चाहिए और विपक्ष के नेताओं को उतना ही सम्मान देना चाहिए जितना अपनी पार्टी के नेताओं को देते हैं। लेकिन राहुल की पॉलिसी सिर्फ मोदी पर हमला करने की है। वे हर तरफ से मोदी पर हमलावर रहते हैं।‘

आजाद ने कहा कि उनके मन में राहुल गांधी के प्रति कोई निजी द्वेष नहीं है। वे एक अच्छे इंसान हैं, लेकिन राजनीतिज्ञ के तौर पर उनमें वो बात नहीं है। उनमें हार्डवर्क करने की कुशलता नहीं है।


Share