आवेश ने 4 विकेट लेकर नहीं होने दिया हैदराबाद का सनराइज, लखनऊ ने 12 रन से मारा मैदान

Avesh did not let Sunrise of Hyderabad happen by taking 4 wickets, Lucknow hit the ground by 12 runs
Share

मुंबई (कार्यालय संवाददाता)। कप्तान केएल राहुल (68) और दीपक हुड्डा (51) की तूफानी हाफ सेंचुरी के बाद आवेश खान (24/4) की आग बरसाती गेंदों के आगे सनराइजर्स हैदराबाद के बल्लेबाज बेबस नजर आए और लखनऊ सुपर जायंट्स ने इंडियन प्रीमियर लीग के एक मुकाबले में 12 रनों से जीत दर्ज की। मैच में लखनऊ सुपर जायंट्स ने पावरप्ले में तीन विकेट गंवाने के बाद कप्तान लोकेश राहुल और दीपक हुड्डा के बीच चौथे विकेट के लिये 87 रन की साझेदारी से उबरते हुए 7 विकेट पर 169 रन बनाए। जवाब में हैदराबाद 17 ओवरों तक जीतते दिख रही थी, लेकिन आवेश खान ने दो विकेट झटकते हुए उसकी कमर तोड़ दी।

17वें ओवर में आवेश ने पलटा गेम

हैदराबाद जीत की ओर बढ़ रही थी कि 18वां ओवर करने आए आवेश खान ने पहली गेंद पर छक्का खाने के बाद निकोलस पूरन और अब्दुल समद को आउट कर कर दिया। इस ओवर में पहली गेंद पर छक्का लगने के बाद वाइड से एक अतिरिक्त रन बना, जबकि 5 ऑफिशल गेंद डॉट रहीं। इससे मैच का रुख ही बदल गया। आखिरी के दो ओवरों में हैदराबाद को जीत के लिए 26 रनों की जरूरती थी, लेकिन वह 157 रन तक ही पहुंच सका, क्योंकि आखिर ओवर करने आए होल्डर ने 3 विकेट झटकते हुए सिर्फ 3 रन दिए, जबकि जीत के लिए हैदराबाद को 16 रनों की जरूरत थी।। होल्डर ने वॉशिंगटन सुदंर (18), भुवनेश्वर कुमार (1) और रोमारियो शेफर्ड (8) के विकेट झटके।

बल्लेबाजी का न्यौता मिलने के बाद लखनऊ सुपर जायंट्स की शुरुआत अच्छी नहीं रही, उसका स्कोर 4.5 ओवर में तीन विकेट पर 27 रन था। वॉशिंगटन सुंदर (28 रन देकर दो विकेट) ने सनराइजर्स हैदराबाद को शुरुआती विकेट दिलाये। सबसे पहले उन्होंने दूसरे ओवर में सलामी बल्लेबाज क्विंटन डिकॉक (01) को कप्तान केन विलियमसन के हाथों कैच आउट कराया और फिर चौथे ओवर में इविन लुईस (1) को पगबाधा आउट किया। लखनऊ सुपर जायंट्स के कप्तान राहुल (50 गेंद में छह चौके, एक छक्का) और मनीष पांडे (11) अपनी टीम को संभालने का प्रयास कर ही रहे थे कि रोमारियो शेफर्ड (42 रन देकर दो विकेट) ने उन्हें तीसरा झटका दिया।

पांडे ने शेफर्ड के इस पहले ओवर की दूसरी गेंद को चौके और अगली गेंद को डीप स्क्वायर लेग पर छक्के के लिए भेजा। वह छक्का लगाते हुए कैच आउट होने से बच गये थे। लेकिन पांचवीं गेंद पर मिडऑन पर भुवनेश्वर को कैच देकर आउट हो गये। इससे छह ओवर के बाद टीम का स्कोर तीन विकेट पर 32 रन था।

‘स्ट्रेटेजिक टाइम आउट’ के बाद राहुल और हुड्डा (33 गेंद में तीन चौके, तीन छक्के) ने आक्रामक रवैया दिखाया जिसमें इन दोनों ने मिलकर तीन चौके और एक छक्के से 10वें ओवर में 20 रन जुटाये। दोनों एक एक रन के साथ बीच बीच में बाउंड्री लगाकर जिम्मेदारी से खेलते हुए अपने अर्धशतकों की ओर बढ़ रहे थे। दोनों ने चौथे विकेट के लिये 62 गेंद में 87 रन की भागीदारी निभाकर टीम को वापसी कराने में अहम भूमिका निभायी।

शेफर्ड ने फिर हुड्डा का विकेट झटककर लखनऊ की टीम को चौथा झटका दिया। अब आयुष बदोनी (19) क्रीज पर थे जिन्होंने कप्तान राहुल का अच्छा साथ दिया जिससे दोनों ने पांचवें विकेट के लिये 18 गेंद में 30 रन जोड़े। राहुल आउट होने वाले पांचवें खिलाड़ी बने, अगर वह क्रीज पर अंत तक टिके रहते तो शायद यह स्कोर और बड़ा हो सकता था। टी नटराजन (26 रन देकर दो विकेट) की गेंद पर राहुल के पगबाधा आउट होने के बाद बदोनी के अलावा कोई उपयोगी योगदान नहीं कर सका जो अंतिम गेंद पर रन आउट हुए। टीम ने अंतिम पांच ओवर में 55 रन बनाकर चार विकेट गंवाये।


Share