अश्विन ने हरभजन को पीछे छोड़ा

Share

भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने पहले टेस्ट मैच में न्यूजीलैंड की दूसरी पारी में टॉम लाथम को बोल्ड कर अपना 418वां अंतर्राष्ट्रीय विकेट लिया और इसके साथ ही वह भारत के महानतम ऑफ स्पिनर हरभजन ङ्क्षसह से आगे निकल गए। 35 वर्षीय अश्विन के इस मैच से पहले तक 413 विकेट थे। पहली पारी में तीन विकेट लेकर उन्होंने अपने विकेटों की संख्या 416 पहुंचा दी और कल दूसरी पारी में अपना पहला विकेट लेने के साथ ही उनके 417 विकेट हो गए थे । आज उन्होंने अपना दूसरा विकेट लिया और हरभजन से आगे निकल गए। हरभजन ने 103 टेस्टों में 417 विकेट लिए थे जबकि अश्विन अपने 80 वें टेस्ट में इस उपलब्धि तक पहुंचे हैं। अश्विन इसके साथ ही टेस्ट इतिहास में सर्वाधिक विकेट लेने वाले खिलाडिय़ों की सूची में 13 वें नंबर पर पहुंच गए हैं।  गेंदबाजों की सूची में श्रीलंका के ऑफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन 800 विकेट लेकर सबसे आगे हैं। भारत में अब आश्विन से आगे कपिल देव (434 विकेट) और अनिल कुंबले (619 विकेट) हैं।

समय होता तो मैच खत्म कर देते : अश्विन

भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने न्यूजीलैंड के खिलाफ पहला टेस्ट मैच पांचवें और अंतिम दिन सोमवार को ड्रा हो जाने के बाद कहा कि हम चीजों को नियंत्रण में रख रहे थे और अच्छी जगह पर गेंदबाजी कर रहे थे। हम जानते थे कि अगर हमारे पास समय होता तो हम मैच को खत्म कर देते। लेकिन इस पूरे टेस्ट मैच में यही सिलसिला रहा है और खराब रोशनी के कारण खेल जल्दी समाप्त हुआ है।  आश्विन ने मैच के बाद कहा, टेस्ट क्रिकेट में आपको सिर्फ चार ओवर गेंदबाजी नहीं करनी होती। यह एक लंबा प्रारूप है और मैं इसे खेलते रहना चाहता हूं। हरभजन ङ्क्षसह से आगे जाना एक अच्छी बात है। जब से राहुल भाई कोच बने हैं, उन्होंने यही कहा है कि आप जितने भी रन बना लो या विकेट ले लो, 10 साल बाद आपको यह याद नहीं रहेगा, सिर्फ यादें रह जाएगी।

ग्रीन पार्क की पिच के लिए ऑफ स्पिनर ने कहा, हमेशा पिच के बारे में सवाल उठाए जाते है लेकिन अंतिम सेशन के आखिरी ओवर तक मैच का जाना एक अच्छी बात है। एक नया खिलाड़ी आकर इस तरह से मैच बचाता है वह बहुत अच्छी बात है। टेलएंडरों को आउट करना आसान नहीं होता। यह दर्शाता है कि आजकल सभी बल्लेबाज अपने डिफेंस पर भरोसा करते हैं।


Share